Saturday , November 18 2017
Home / Bihar/Jharkhand / विधानमंडल सेशन : 250 की आबादी की बसावटों का सेटेलाइट सर्वे

विधानमंडल सेशन : 250 की आबादी की बसावटों का सेटेलाइट सर्वे

पटना : रियासती हुकूमत रियासत के तमाम ढाई सौ या इससे ज्यादा आबादी वाले बसावटों का सेटेलाइट से सर्वे करा रही है. सेटेलाइट इमेज से छप्परों की तादाद से आबादी की जानकारी मिलेगी. इसके बाद ऐसे बसावटों को बारहमासी पक्की सड़कों से जोड़ा जायेगा. वज़ीरे आला ने यह एलान पीर को विधान परिषद में की. भाजपा के मंगल पांडेय के तारांकित प्रश्न पर विरोधी दल के नेता सुशील कुमार मोदी के पूरक प्रश्न के दौरान उन्होंने हस्तक्षेप करते हुए कहा कि केंद्र की इस योजना में पहले एक हजार की आबादी को सड़क से जोड़ने फिर बाद में पांच सौ और ढाई सौ की आबादी को पक्की सड़क से जोड़ने की योजना बनी. उन्होंने सदन को बताया कि अधिकारी गांव का मतलब राजस्व ग्राम समझते थे. उन्हें मुश्किल से बसाबट समझाया गया. सर्वे होते ही सभी ऐसे बसावटों को बारहमासी पक्की सड़कों से जोडा जायेगा. बजट में रक़म की कमी के बारे में उन्होंने कहा कि अभी तो बस इस मद के लिए एक शीर्ष खोला गया है. रक़म का प्रावधान कर लिया जायेगा. इसके पहले देहि कार्य विभाग के वजीर शैलेश कुमार ने कहा कि रियासत योजना से 2019-20 तक कुल 54667 कमी सड़क बनाने का टारगेट तय किया गया है.

वज़ीरे आला नीतीश कुमार ने कहा कि रियासत के कब्रिस्तानों की घेराबंदी के लिए सरकार के पास रक़म की कोई कमी नहीं है. यह पूर्णरूप से रियासत की योजना है. इसे नौ साल पहले रियासती हुकूमत ने आरंभ किया था. कब्रिस्तानों की घेराबंदी जिले की तर्जीह फेहरिस्त की बुनियाद पर की जाती है. विधानसभा में पीर को उन्होंने इसकी एलान की.

तौसीफ आलम की तरफ से बहादुरगंज के कब्रिस्तान को हजारों एकड़ का बताये जाने पर वज़ीरे आला ने ताज्जुब ज़ाहिर किया और कहा कि हजारों एकड़ में तो नगर बस जाता है. अगर कोई कब्रिस्तान हजारों एकड़ का होगा तो उसकी घेराबंदी पर 50 करोड़ से ज्यादा खर्च होंगे. चर्चा में हिस्सा लेने वाले ओपोजिशन के लीडर प्रेम कुमार द्वारा सवाल पूछे जाने पर वज़ीरे आला ने कहा कि यह खुशी की बात है कि अलग होने के बाद भी कब्रिस्तान पर प्रेम कुमार का कमिटमेंट वैसा ही है. तौसीफ आलम नें बहादुरगंज के गुणा चौरासी कब्रिस्तान की घेराबंदी को लेकर सवाल किया था. सरकार का हक रखते हुए ऊर्जा मंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव ने जवाब दिया कि उक्त कब्रिस्तान जिला की तरफ से तैयार लिस्ट में शामिल नहीं है. साथ ही मुताल्लिक कब्रिस्तान का रकबा 2.8 एकड़ है. कांग्रेस के शकील अहमद खान ने सरकार से दरख्वास्त किया कि वह जिलों को कब्रिस्तानों की घेराबंदी मद में ज्यादा रक़म दस्तयाब कराएं. जिससे इसमें ज्यादा तादाद में घेराबंदी का काम किया जा सके.

TOPPOPULARRECENT