Monday , December 18 2017

वेस्ट इंडीज़ ए से मुक़ाबला ज़हीर और सहवाग तवज्जो का मर्कज़

वेस्ट इंडीज़ ए के ख़िलाफ़ आज‌ यहां दूसरा गैर सरकारी टेस्ट मैच खेला जाएगा और इस मुक़ाबला में हिंदुस्तानी ए टीम में सीनियर खिलाड़ियों वीरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर और ज़हीर ख़ान पर तमाम तर तवज्जो मर्कूज़ होगी।

वेस्ट इंडीज़ ए के ख़िलाफ़ आज‌ यहां दूसरा गैर सरकारी टेस्ट मैच खेला जाएगा और इस मुक़ाबला में हिंदुस्तानी ए टीम में सीनियर खिलाड़ियों वीरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर और ज़हीर ख़ान पर तमाम तर तवज्जो मर्कूज़ होगी।

चेतेश्वर पुजारा की ज़ेर क़ियादत हिंदुस्तानी ए टीम को मैसूर में शुरूआती मुक़ाबला में 162 रंस‌ की शर्मनाक हार‌ बर्दाश्त करनी पड़ी है और ये भी दिलचस्प पहलू होगा कि किस तरह पुजारा अपने सीनिय‌र खिलाड़ियों सहवाग, गंभीर और ज़हीर ख़ां का इस्तिमाल करते हैं जोकि एक अर्सा से मुख़्तलिफ़ वजूहात की बिना पर टीम से बाहर हैं।

वीरेंद्र सहवाग गुजिश्ता 30 टेस्ट मुक़ाबलों की इनिंगस‌ में सेंचुरी स्कोर नहीं कर पाए हैं जब कि गौतम गंभीर के लिए भी हालात कुछ मुख़्तलिफ़ नहीं, जैसा कि जनवरी 2010 से ताहाल 40 इनिंगस‌ में वो सेंचुरी स्कोर नहीं कर पाए हैं। बाएं हाथ के फ़ास्ट बोलर ज़हीर ख़ान भी बेहतर फ़ार्म में नहीं हैं, जैसा कि अक्टूबर 2010 से वो एक इनिंगस‌ में 5 विकटें हासिल नहीं कर पाए हैं जब कि उनका फ़िटनैस मेयार भी तशवीश का बाइस है।

2011 वर्ल्ड कप के बाद ज़हीर ख़ान ने सिर्फ़ 7 टेस्ट मुक़ाबलों में टीम की नुमाइंदगी की है, जैसा कि इंग्लैंड में वो ज़ख़मी होकर वतन लौट गए थे। वेस्ट इंडीज़ ए के ख़िलाफ़ आज‌ यहां शुरू होने वाला दूसरा टेस्ट वीरेंद्र सहवाग और गौतम गंभीर के लिए काफ़ी अहमियत का हामिल है, उनके पी एचे अलनजर ट्रॉफ़ी में भी मौक़ा दिया गया था और इस टूर्नामेएंट में भी वो ख़ातिरख़वाह मुज़ाहरा करने में नाकाम रहे, हालाँकि सहवाग ने एक तेज़ रफ़्तार निस्फ़ सेंचुरी ज़रूर बनाई है।

इस मौके का फ़ायदा उठाते हुए वो अपने तजुर्बा के एतबार से बड़े स्कोर बनाने के ख़ाहिश‌ होंगे ताकि वेस्ट इंडीज़ के ख़िलाफ़ होने वाले सीरीज़ के लिए वो क़ौमी सलेक्टरों की तवज्जो अपनी जानिब मबज़ूल करवा सकें। चे अलनजर ट्रॉफ़ी के तीन मुक़ाबलों में सहवाग ने एक निस्फ़ सेंचुरी के साथ‌ सिर्फ़ 72 रंस‌ स्कोर किए हैं जब कि गौतम गंभीर दो इनिंगस‌ में सिर्फ़ 24 रंस‌ बना पाए हैं।

पुजारा की तवज्जो ज़हीर ख़ान की तरफ़ भी होगी जिन्हों ने युवराज सिंह के साथ‌ जुनूबी फ़्रांस में ट्रेनिंग सेशन में हिस्सा लिया है जिस के बाद युवराज ने तो शानदार फ़ार्म का सबूत दे दिया है। अब बारी ज़हीर ख़ान की है। मयस्सर में होने वाले मुक़ाबले में इश्वर पांडे और मुहम्मद समी ने बेहतर मुज़ाहरा नहीं किया है।

मज़कूरा बौलरों ने इबतिदाई टेस्ट में 73 ओवर्स की बौलिंग करने के बावजूद पहली इनिंगस‌ में 224 रंस‌ दे कर सिर्फ़ 3 विकटें हासिल कीं जब कि दूसरी इनिंगस‌ में तो ये बौलर्स विकेट हासिल करने में ही नाकाम रहे। विकेट के हुसूल में नाकामी के इलावा मज़कूरा बौलर्स अपनी लाएँ एंड लेंथ बरक़रार रखने में भी नाकाम रहे।

हिंदुस्तानी ए टीम के कप्तान चेतेश्वर पुजारा को अपने खराब‌ मुज़ाहिरे को पसेपुश्त डालने के ख़ाहिश‌ होंगे उन्होंने पहले टेस्ट की शुरु दो इनिंगस‌ में सिर्फ़ 20 रंस‌ स्कोर किए हैं, जैसा कि उन्होंने जुनूबी अफ्रीका के ए दौरा पर शानदार सेंचुरी के साथ बेहतरीन मुज़ाहरा किया था। पहले मुक़ाबले में पुजारा और उनके साथियों ने जिस तरह का मुज़ाहरा किया है, वो तशवीश का बाइस है, बौलिंग और बैटिंग मुज़ाहिरों का हरीफ़ टीम ने बेहतरीन फ़ायदा उठाते हुए तीन मुक़ाबलों की सीरीज़ में 1-0 की सबक़त हासिल करली है।

विकेट कीपर बैट्समेन उदय‌ कोल और मुहम्मद कैफ जिन्होंने अपनी सलाहियतों का मुज़ाहरा है, उनसे बैटिंग मुज़ाहिरों की उम्मीद भी की जा रही है। हिंदुस्तानी बौलिंग शोबा में फिर एक मर्तबा परवेज़ रसूल अहम रोल अदा करसकते हैं, उन्होंने पहले मुक़ाबले में 7 विकटें हासिल करते हुए टीम के लिए ना सिर्फ़ बेहतर मुज़ाहरा किया है बल्कि सलेक्टरों की तवज्जो भी अपनी जानिब मबज़ूल करवाई है।

पुजारा के लिए परवेज़ रसूल के बेहतरीन मुज़ाहिरे बौलिंग में वाहिद उम्मीद है जिन से वेस्ट इंडीज़ के बैट्समेनों पर क़ाबू पाया जा सकता है। दूसरी जानिब वेस्ट इंडीज़ ए की टीम जिस ने पहले मुक़ाबला में 162 रंस‌ की शानदार कामयाबी हासिल की है, वो आज‌ यहां शुरू होने वाले दूसरे मुक़ाबला में भी कामयाबी के ज़रिया सीरीज़ अपने नाम करने की कोशिश‌ होगी, लेकिन इसके लिए सहवाग, गंभीर और ज़हीर ख़ां जैसे तजुर्बाकार खिलाड़ियों पर क़ाबू पाना एक बड़ा चैलेंज होगा।

TOPPOPULARRECENT