Saturday , September 22 2018

वैज्ञानिकों ने मानव दिमाग के एक अत्यंत छोटे हिस्से की पहचान की

लंदन: वैज्ञानिकों ने मानव दिमाग के एक अत्यंत छोटे हिस्से की पहचान की है, जो न सिर्फ आवाज पहचानने में, बल्कि आवाजों में अंतर करने में मदद करता है।

जर्मनी के मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने खुलासा किया है कि हमारे दिमाग में पोस्टीरियर सुपिरियर टेम्पोरल गाइरिस (एसटीजी) आवाज की पहचान के लिए जिम्मेदार है।

यह दाहिने पोस्टीरियर टेम्पोरल लोब का एक भाग होता है, जो स्तनधारी के दिमाग के चार प्रमुख भागों में से एक है।

शोध में पता चला है कि जिन लोगों में खास तौर से दाहिने पोस्टीरियर टेम्पोरल लोब में चोट लग जाती है, उन्हें आवाज पहचानने में मुश्किल होती है।

मैक्स प्लैक इंस्टीट्यूट की वैज्ञानिक क्लाउडिया रोसवाडोविट्ज ने कहा, “चोट वाले मरीजों की जांच से पता चला है कि दिमाग का कौन-सा भाग किस कार्य के लिए जिम्मेदार है। यदि दिमाग का एक निश्चित भाग चोटिल है और इस वजह से एक तय कार्य नहीं कर पाता है तो दोनों अवयवों को एक साथ जोड़ सकते हैं।”

इस शोध का प्रकाशन पत्रिका ‘ब्रेन’ में किया गया है। शोधकर्ताओं ने दिमाग में घाव वाले मरीजों खास तौर से स्ट्रोक से पीड़ितों का परीक्षण किया और उनकी सीखने व आवाज पहचाने की क्षमता की जांच की।

इसके अतिरिक्त, वैज्ञानिकों ने प्रतिभागियों के मस्तिष्क स्कैन पर देखा-उनके मस्तिष्क संरचनाओं और चोटों की उच्च संकल्प छवियाँ।

शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन लोगों को स्ट्रोक का सामना करना पड़ा था, वे भी आवाज की पहचान नहीं कर पाए थे।

लोगों की जांच की गई, 9 प्रतिशत के पास किसी प्रकार की परेशानी थी जो एक आवाज को दूसरे से अलग करती थी।

इन निष्कर्षों को पिछले अध्ययन द्वारा समर्थित किया गया था, जहां सामान्य रूप से आवाज़ अंधापन के रूप में जाना जाने वाला एक कार्यक्रम – फोनोगॉन्सिया – या आवाजों की पहचान करने में असमर्थता की जांच की गई थी।

टीम ने यह भी पता लगाया कि सही अस्थायी लोब में और इसके बदले में संबंधित घाटे में वृद्धि हुई है।

TOPPOPULARRECENT