Wednesday , December 13 2017

वो आँखें जिनको दोज़ख़ की आग छू नहीं सकती

हज़रत अबदुल्लाह बिन अब्बास रज़ी अल्लाहो तआला अन्हो से रिवायत है रसूल अल्लाहो सल्लाहो अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया दो आँखों को दोज़ख़ की आग छू नहीं सकती, एक वो आँख जो अल्लाह के ख़ौफ़ से रोने वाली है, दूसरी वो आँख जो मुजाहिदीन की हिफ़ाज़त में रात को जागती रहती है। (तिरमिज़ी शरीफ़)

TOPPOPULARRECENT