Sunday , December 17 2017

वज़ीर-ए-आज़म की वुज़रा और शोबा सनअत के नुमाइंदों से मुलाक़ात

नई दिल्ली २4 नवंबर ( पी टी आई ) वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने आज सीनीयर का बीनी वुज़रा और सनअत इत्तलाआती टैक्नालोजी के नुमाइंदों से मुलाक़ात की ताकि ई गवर्नैंस प्रोग्राम की पेशरफ़त का जायज़ा लिया जा सके ।

नई दिल्ली २4 नवंबर ( पी टी आई ) वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने आज सीनीयर का बीनी वुज़रा और सनअत इत्तलाआती टैक्नालोजी के नुमाइंदों से मुलाक़ात की ताकि ई गवर्नैंस प्रोग्राम की पेशरफ़त का जायज़ा लिया जा सके ।

ज़राए के बमूजब वज़ीर-ए-आज़म को इत्तिला मिली थी कि पेशरफ़्त की सताइश की जा रही है और मुख़्तलिफ़ तजावीज़ महिकमा इत्तलाआती टैक्नालोजी को ई गवर्नैंस के तहत बतौर मश्वरा पेश की जा रही हैं। वज़ीर-ए-आज़म का तलब करदा इजलास इलैक्ट्रॉनिक सरवेस डिलीवरी क़ानून का पेशख़ैमा समझा जा रहा है जो हुकूमत जारीया पार्लीमैंट के इजलास में पेश करने की ख़ाहां है ।

तवक़्क़ो है कि इस क़ानून से हुकूमत की ख़िदमात शहरीयों को फ़राहम करना ज़्यादा शफ़्फ़ाफ़ होजाएगा और कुरप्शन के मसला की भी यकसूई होजाएगी । ई एस डी बिल 2011 -ए-एक बार मंज़ूर होजाने पर हर सरकारी महिकमा को क़ानूनी तौर पर इख़तियार हासिल होजाएगा कि वो तमाम ख़िदमात जो ऑनलाइन या बर्क़ी तौर पर फ़राहम की जा सकती हैं अंदरून पाँच साल फ़राहम करने को यक़ीनी बनाए ।

इस क़ानून में हर किस्म के इस्तिमाल की गुंजाइश है जिस में लाईसंसों और परमिटों का इजरा रक़म की अदायगी और सरकारी मुलाज़मीन की जानिब से किए जाने वाले फ़र्क़-ओ-इमतियाज़ का ख़ातमा शामिल होगा जिस तरह हुकूमत क़वाइद के मुताबिक़ चलाई जा सकेगी और शहरीयों के साथ रवाबित ज़्यादा शफ़्फ़ाफ़ हो जाएंगे ।

TOPPOPULARRECENT