Friday , December 15 2017

वज़ीर-ए-आज़म से दौलत-ए-मुश्तरका चोटी कान्फ्रेंस के बाईकॉट का करूणानिधि सदर डी ऐम के का मुतालिबा

वज़ीर-ए‍-ख़ारिजा सलमान ख़ुरशीद के दौलत-ए-मुश्तरका की चोटी कान्फ्रेंस में जो आइन्दा माह श्रीलंका में मुक़र्रर है शिरकत का तयक़ून‌ देने के मुबय्यना तबसरे को इंतिहाई सदमा अंगेज़ और मायूसकुन क़रार देते हुए डी ऐम के ने वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन स

वज़ीर-ए‍-ख़ारिजा सलमान ख़ुरशीद के दौलत-ए-मुश्तरका की चोटी कान्फ्रेंस में जो आइन्दा माह श्रीलंका में मुक़र्रर है शिरकत का तयक़ून‌ देने के मुबय्यना तबसरे को इंतिहाई सदमा अंगेज़ और मायूसकुन क़रार देते हुए डी ऐम के ने वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह पर ज़ोर दिया कि वो वाज़िह तौर पर ऐलान करें कि 53रुकनी दौलत-ए-मुश्तरका की चोटी कान्फ्रेंस का हिन्दुस्तान की तरफ‌ से बाईकॉट किया जाएगा।

पार्टी के सदर ऐम करूणानिधि ने कहा कि सलमान ख़ुरशीद का तबसरा कि वो इस कान्फ्रेंस में शिरकत करेंगे कि एक ऐसे वक़्त मंज़रे आम पर आया है कि बरसर-ए-इक़तिदार तमिल‌ क़ौमी इत्तिहाद ने श्रीलंका के शुमाली सूबा के इंतेख़ाबात में कामयाबी हासिल की थी और इस ने फ़ैसला किया है कि दौलत-ए-मुश्तरका चोटी कान्फ्रेंस का बाईकॉट किया जाये लेकिन सलमान ख़ुरशीद ने इस में शिरकत का ऐलान किया है जो इंतिहाई सदमा अंगेज़ और मायूसकुन बयान है।

उन्होंने एक बयान जारी करते हुए कहा कि मर्कज़ी हुकूमत को चाहिए कि बिलाताख़ीर वाज़िह तौर पर ऐलान करे कि दौलत-ए-मुश्तरका चोटी कान्फ्रेंस में हिन्दुस्तान शिरकत नहीं करे गा। उन्होंने कहा कि वो वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह पर ज़ोर देते हैं कि वो इस सिलसिले में फ़ौरी तौर पर ऐलान करें। डी ऐम के जारीये साल मार्च में श्रीलंका के तमिल‌ नज़ाद शहरीयों के मसले पर यू पी ए से तर्क-ए-ताल्लुक़ कर चुकी है। तमिलनाडू की सियासी पार्टीयां दौलत-ए-मुश्तरका चोटी कान्फ्रेंस में हिन्दुस्तान की शिरकत की मुख़ालिफ़त कर रही है इनका दावा है कि श्रीलंका में इंसानी हुक़ूक़ की ख़िलाफ़वरज़ी जारी है।

TOPPOPULARRECENT