Saturday , December 16 2017

वज़ीर गीताश्री उरांव ने एसडीपीओ को धमकाया

गुमला वाक़ेय बसिया के एसडीपीओ रहे दीपक कुमार ने रियासत की इंसानी वसायल तरक़्क़ी वज़ीर गीताश्री उरांव पर ज़्यादति करने का इल्ज़ाम लगाया है। वाकिया 16 नवंबर की है। उन्होंने डीजीपी राजीव कुमार को खत लिखकर इसकी जानकारी दी है। खत में लिखा ह

गुमला वाक़ेय बसिया के एसडीपीओ रहे दीपक कुमार ने रियासत की इंसानी वसायल तरक़्क़ी वज़ीर गीताश्री उरांव पर ज़्यादति करने का इल्ज़ाम लगाया है। वाकिया 16 नवंबर की है। उन्होंने डीजीपी राजीव कुमार को खत लिखकर इसकी जानकारी दी है। खत में लिखा है कि वज़ीर ने उन्हें डिपार्टमेंट में नहीं रहने देने की धमकी दी है। साथ ही कहा कि आप अपना बोरिया-बिस्तर बांध कर यहां से निकलिये। एसडीपीओ ने खत में कहा है कि क्या वह इसलिए 24 घंटे काम करते हैं कि उन्हें इस तरह बेइज्जत किया जाये।

क्या थी वाकिया : एसडीपीओ ने डीजीपी को भेजे खत में 16 नवंबर की वाकिया का जिक्र करते हुए लिखा है कि बसिया की मोरेंग पंचायत के मुखिया याकूब लकड़ा की कत्ल कर दी गयी थी। इत्तिला मिलने पर वह पुलिस फोर्स के साथ फौरन जायेहादसा पर पहुंचे। गाँव वालों ने उन्हें बताया कि मुजरिम टेंगरिया गांव की तरफ भागे हैं। इसके बाद वह पुलिस फोर्स के साथ मुजरिमों को पकड़ने के लिए टेंगरिया गांव की तरफ निकले। इसी दौरान वज़ीर गीताश्री उरांव जाये हादसा पर पहुंची। उस वक़्त बसिया के इंस्पेक्टर वहां मौजूद थे।

इल्ज़ाम भी लगाये
खत में उन्होंने लिखा है कि मुजरिमों का पीछा करने के दौरान ही मुझे पता चला कि वज़ीर जाये हादसा पर पहुंची हैं। इसके बाद मैं जाये हादसा पर लौट आया, वज़ीर का इस्तकबाल किया। इस दरमियान वज़ीर मेरे साथ बद तमीजी करने लगी। कई तरह के इल्ज़ाम लगाये। वज़ीर ने कहा कि आपने ही यहां मर्डर करवाया है। आप सिर-पैर कटवा देते हैं। आप सोने की चेन पहनते हैं और आम पब्लिक को मरवाते हैं। खत में एसडीपीओ ने लिखा है कि वज़ीर ने पूछा, आप इस नौकरी में कैसे आयें। मेरे यह जवाब देने पर कि मेरा सलेक्शन जेपीएससी ने किया है, उन्होंने कहा : जेपीएससी ने गलत सलेक्शन किया है। आप अपना बोरिया-बिस्तर बांध कर यहां से निकलिए। आपके खिलाफ अभी रिपोर्ट करते हैं। आपको डिपार्टमेंट में नहीं रहने देंगे। इस दौरान गाँव वाले और पुलिस के अफसर भी वहां मौजूद थे। गुमला एसपी का फोन आने पर मैं वहां से चला गया।

TOPPOPULARRECENT