Tuesday , December 19 2017

शब क़दर की तारीख़ पोशीदा रखने में भी गुनहगारों केलिए राहत

हैदराबाद १७ अगस्त (रास्त) मजलिस शहनशाह बग़दाद-ओ-सुलतान उल-हिंद के ज़ेर-ए-एहतिमाम 25 रमज़ान उल-मुबारक सहपहर जलसा शब क़दर ज़ेर सरपरस्ती हकीम-ओ-डाक्टर पैर इक़बाल बाबा कमलिया चेयरमैन हमीदिया एजूकेशनल सोसाइटी मुनाक़िद हुआ। हज़रत अल्ह

हैदराबाद १७ अगस्त (रास्त) मजलिस शहनशाह बग़दाद-ओ-सुलतान उल-हिंद के ज़ेर-ए-एहतिमाम 25 रमज़ान उल-मुबारक सहपहर जलसा शब क़दर ज़ेर सरपरस्ती हकीम-ओ-डाक्टर पैर इक़बाल बाबा कमलिया चेयरमैन हमीदिया एजूकेशनल सोसाइटी मुनाक़िद हुआ। हज़रत अल्हाज सय्यद मसरूर आब्दी शरफ़ी की ज़ेर-ए-निगरानी मुशायरा नाअतिया मुनाक़िद हुआ।

डाक्टर सय्यद ग़ियास आरिफ़ अशर्फ़ी, रहमत सिकंदराबादी, अल्हाज सय्यदसादिक़ नवेद, असलम फ़रशूरी मेहमानान ख़ुसूसी थी। क़ारी अनीस अहमद शरफ़ी की क़रणत के बाद मुहम्मद ज़िया इर्फ़ान कादरी हसामी ने कहा कि शब क़दर बंदों के लिएहक़तआला की जानिब से एक तोहफ़ा अज़ीम है।

इसी रात क़ुरआन मजीद हुज़ूर-ए-अकरम सिल्ली अल्लाह अलैहि वाला वसल्लम पर नाज़िल हुआ। अल्लाह ताला ने अपने बंदों के लिए माह रमज़ान उल-मुबारक में शब क़दर जैसी अज़ीम रात इनायत फ़रमाई। इस रात में जो बंदा भी इबादत करता है अल्लाह ताला उस को एक हज़ार महीने इबादत करने काशरफ़ अता फ़रमाता है।

इस मौक़ा पर अज़ीज़ नागपोरी, रहमत सिकंदराबादी, साक़िबबनारसी, कामिल हैदराबादी की आजलाना सेहतयाबी केलिए दुआ की गई। मुशायरा में जिन शारा-ए-ने शिरकत की वो हसब-ए-ज़ैल हैं। सय्यद मसरूर आब्दी शरफ़ी, सय्यद सादिक़नवेद, डाक्टर सय्यद ग़ियास आरिफ़ अशर्फ़ी, क़ारी अनीस अहमद, अरशद अशर्फ़ी उल-क़ादरी (नाज़िम मुशायरा) मुअल्लिम सय्यद अलकसीरी, असलम फ़रशूरी, रहमत सिकंदराबादी, मिर्ज़ा अब्बास बैग, मुहम्मद ज़िया इर्फ़ान कादरी हसामी, आज़म कादरी, ग़ौस कादरी, नज़ीरअहमद, दुबैर अली, समीअ हुसैन, क़दीर कादरी, अबदूर्रज़्ज़ाक़ हुसैनी, अय्याज़ सिद्दीक़ी, ख़्वाजा हसन ने कलाम सुनाया।

TOPPOPULARRECENT