Sunday , November 19 2017
Home / Politics / शरद पवार क्या डर गये हैं? विपक्षी एकजुटता से क्यों हो रहे हैं दूर?

शरद पवार क्या डर गये हैं? विपक्षी एकजुटता से क्यों हो रहे हैं दूर?

नई दिल्ली। अब यह स्पष्ट हो गया है कि मोदी सरकार राकांपा नेतृत्व पर दबाव डाल रही है कि वह कांग्रेस के साथ कोई संबंध न रखे। जब से अजीत पवार के खिलाफ जांच का काम महाराष्ट्र में रोक दिया गया है तब से शरद पवार ढीले पड़ गए हैं।

यूपीए सरकार के दौरान नागरिक उड्डयन मंत्री रहे प्रफुल्ल पटेल अब दबाव में हैं। जब से यह पता चला है कि उनके ड्राइवर की कम्पनी ने विभिन्न हवाई अड्डों पर ठेके लिए हैं तब से गुजरात में राकांपा ढीली पड़ गई है।

अब ऐसी कानाफूसी चल रही है कि ड्राइवर की कम्पनी का कारोबार 400 करोड़ रुपए का है। हैरानगी की बात यह है कि महाराष्ट्र में ड्राइवर मालामाल हो रहे हैं।

स्मरण रहे कि नितिन गडकरी के ड्राइवर की भी एक कम्पनी थी और उसका मुम्बई की पॉश कालोनी में एक फ्लैट है। गडकरी को 2013 में पार्टी अध्यक्ष का पद छोडऩा पड़ा था। पटेल के ड्राइवर की कम्पनी की जांच शुरू हुई तो वह गायब हो गए।

राकांपा के लोकसभा सांसद तारिक अनवर मोदी सरकार पर नरम रुख अपनाने के लिए पार्टी नेतृत्व का आदेश मानने के मूड में नहीं

TOPPOPULARRECENT