Monday , December 18 2017

शराबी नौजवानों से बेटी को बचाने वाली माँ की मौत

हैदराबाद 11 अप्रैल: ज़िला गुंटूर में आवारा शराबी नौजवानों के शिकंजे से अपनी नौजवान बेटी को बचाने की कोशिश में माँ की हलाकत के बरबरीयत अंगेज़ वाक़िये का आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट ने आज अज़ ख़ुद नोट लेते हुए रियास्ती हुकूमत को 12अप्रैल तक रि

हैदराबाद 11 अप्रैल: ज़िला गुंटूर में आवारा शराबी नौजवानों के शिकंजे से अपनी नौजवान बेटी को बचाने की कोशिश में माँ की हलाकत के बरबरीयत अंगेज़ वाक़िये का आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट ने आज अज़ ख़ुद नोट लेते हुए रियास्ती हुकूमत को 12अप्रैल तक रिपोर्ट पेश करने की हिदायत की है।

कारगुज़ार चीफ़ जस्टिस एन वे रमना और जस्टिस विलास अफ़ज़ल पर पर मुश्तमिल बंच ने अख़बारी इत्तिलाआत की बुनियाद पर इस बद बख्ता ना वाक्ये का नोट लिया है।

इतेलाआत में बताया गया था कि बवालहोस शराबी नौजवानों के शिकंजे से नौजवान बेटी को बचाने बेयार-ओ-मददगार माँ की चीख़ पुकार के बावजूद ना तो पुलिस और ना ही मुक़ामी अफ़राद ने उस की मदद की।

नतीजतन शराबी नौजवानों ने माँ को लारी तले रौंद दिया था। हाईकोर्ट बंच ने एडवोकेट जनरल को इस मसले पर रिपोर्ट पेश करने की हिदायत की है।

अख़बारी इतेलाआत के बमूजब 45साला बी कान्ता सुनीला 8 अप्रैल की शब गुंटूर के टीना ली टाव‌न में शराबी नौजवानों के ग्रुप से अपनी बेटी को बचाने की कोशिश के दौरान फ़ौत होगई थी।

इस कोशिश के दौरान नौजवानों ने माँ और बेटी से इंतिहाई फ़हश कलामी की थी और माँ को वहां से गुज़रने वाली तेज़ रफ़्तार लारी के नीचे ढकेल दिया था।

TOPPOPULARRECENT