Wednesday , December 13 2017

शहज़ाद पूनावाला को बड़ी कामयाबी, गौरक्षा के नाम पर हिंसा के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका मंजूर

अब्दुल हमीद अंसारी, नई दिल्ली। मोदी सरकार के आने के बाद से देश में गौरक्षा के नाम पर असमाजिक तत्वों द्वारा गुंडागर्दी को देखते हुए कांग्रेस के सीनियर नेता और महाराष्ट्र कांग्रेस में सचिव शहजाद पुनावाला और समाजिक कार्यकर्ता तहसीन पुनावाला ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की थी, जिसकी सुनवाई आज करते हुए जांच के आदेश दिए।
gau-raksha-dal
जस्टिस दीपक मिश्रा और जस्टिस अमिताव राय के बेंच ने सुनवाई करते हुए कहा कि मामले की आगे भी सुनाई की जाएगी और कोर्ट उन सभी घटनाओं को जांच करेगी जो कि अलग अलग प्रदेशों में हो रही है। केंद्र की सरकार और उन राज्यों की सभी छह सरकारों को वकील नियुक्त करके याचिका पर जबाव देने का आदेश दिया। माननीय कोर्ट ने अगली सुनवाई 7 नवंबर को रखा है।

मालूम हो कि याचिकाकर्ता शहजाद पुनावाला और तहसीन पुनावाला ने सुप्रीम कोर्ट से मांग की थी कि गौरक्षा के नाम पर मुस्‍ल‍िम और दलितों पर चल रहे हमलों को रोका जाए। और गौ के नाम पर आतंक फैला रहे संगठनों पर पाबंदी लगाई जाए ठीक उसी तरह जैसे ISISI और SIMI पर पाबंदी है। याचिका में यह भी कहा गया था कि कुछ राज्यों में कानूनी संरक्षण मिल रहा है, उसे बंद किया जाए।

शहज़ाद पूनावाला की बेहतरीन कोशिशों से हमेशा समाज में आपसी भाई चारों को मजबूत बल मिला है। इस दौरान शहजाद पुनावाला से सियासत हिंदी की बात हुई जिसमें शहजाद पुनावाला ने कहा कि हम चाहते हैं केंद्र की गृहमंत्रालय गौरक्षा के नाम पर आतंकी संगठनों पर प्रतिबंध लगाए और समाज में आपसी तालमेल को कायम रखने में उचित कदम उठाए।

TOPPOPULARRECENT