Sunday , December 17 2017

शहरीयान हैदराबाद तीन रोज से पीने के पानी से महरूम

दोनों शहरों हैदराबाद और सिकंदराबाद के बेशतर इलाक़ों में पीने के पानी का मसअला संगीन हो चुका है। शहरीयान हैदराबाद गुज़िश्ता 3 यौम से पीने के पानी से महरूम हैं और वो बोतल बंद पानी ख़रीदने पर मजबूर हैं।

दोनों शहरों हैदराबाद और सिकंदराबाद के बेशतर इलाक़ों में पीने के पानी का मसअला संगीन हो चुका है। शहरीयान हैदराबाद गुज़िश्ता 3 यौम से पीने के पानी से महरूम हैं और वो बोतल बंद पानी ख़रीदने पर मजबूर हैं।

आबरसानी बोर्ड की जानिब से पहले एक यौम पानी की सरब्राही बंद रखने का ऐलान किया गया था और दूसरे दिन भी पानी की सरब्राही बंद रखी गई और आज भी शहर के कई इलाक़ों में पानी की सरब्राही यक़ीनी नहीं बनाई जा सकी।

शहर में मौसमे गर्मा की शिद्दत के बाइस पानी की क़िल्लत महसूस की जा रही है और कई इलाक़ों के अवाम नल के पानी के प्रेशर और औक़ात कार में कमी की शिकायात कर रहे हैं लेकिन इस के बावजूद भी महकमा आबरसानी के ओहदेदारों की जानिब से मसअले के हल के इक़्दामात नहीं किए जा रहे हैं।

पुराने शहर के इलाक़ों काला पत्थर, ताड़बन, किशन बाग़, बहादुर पूरा, फ़तह दरवाज़ा, ख़िलवत, शाहगंज, हुसैनी अलम, तालाब कट्टा, रैन बाज़ार, याक़ूत पूरा, ईदी बाज़ार, कंचन बाग़, चंद्रायन गुट्टा,हाफ़िज़ बाबा नगर और दीगर इलाक़ों में पानी के प्रेशर में कमी और कम वक़्त के लिए सरब्राही की शिकायात आम होचुकी हैं।

नए शहर के इलाक़ों मले पल्ली, नामपल्ली, फ़्रस्ट लांसर, मुराद नगर, मेह्दी पट्नम और टोली चौकी में भी पानी की सरब्राही में कमी की शिकायत मामूल की बात बन चुकी है।

रियासत तेलंगाना के दीगर अज़ला में भी मौसमे गर्मा में पानी की क़िल्लत का सामना अवाम को करना पड़ रहा है लेकिन हुकूमत की जानिबसे इस क़िल्लत से निमटने के लिए इक़दामात की ख़ुसूसी हिदायात जारी की गई हैं।

TOPPOPULARRECENT