Wednesday , December 13 2017

शहर के कॉरपोरेट दवाखाने नर्सेस की तनख़्वाहों में इज़ाफ़ा पर मजबूर

हैदराबाद के कॉरपोरेट हॉस्पिटल्स के इंतिज़ामीया ने नर्सेस की तनख़्वाहों में इज़ाफ़ा करदिया उस की वजह हुकूमत केराला की तरफ़ से नर्सों की माहाना तनख़्वाह 12 हज़ार और 13 हज़ार रुपये के माबैन(दरमियान) मुक़र्रर करने का फ़ैसला किया है।

हैदराबाद के कॉरपोरेट हॉस्पिटल्स के इंतिज़ामीया ने नर्सेस की तनख़्वाहों में इज़ाफ़ा करदिया उस की वजह हुकूमत केराला की तरफ़ से नर्सों की माहाना तनख़्वाह 12 हज़ार और 13 हज़ार रुपये के माबैन(दरमियान) मुक़र्रर करने का फ़ैसला किया है।

चूँकि हैदराबाद के कॉरपोरेट दवा ख़ानों में काम करने वाला 80 फ़ीसद नर्सिंग स्टाफ़ केराला से ताल्लुक़ रखता है। इस लिए हैदराबाद के कॉरपोरेट दवा ख़ानों को ये ख़ौफ़ पैदा हुआ कि अगर वो नर्सेस की तनख़्वाहों में इज़ाफ़ा नहीं करेंगे तो नर्सेस ज़ाइद तनख़्वाह की कशिश में अपनी आबाई रियासत केराला चली जाएंगी।

ऐसी सूरत में कॉरपोरेट दवा ख़ानों का निज़ाम दरहम ब्रहम हो जाएगा। इस वजह से फ़ौरी तौर पर कॉरपोरेट दवा ख़ानों ने नर्सिंग स्टाफ़ की तनख़्वाहों में इज़ाफ़ा किया है।

TOPPOPULARRECENT