Sunday , April 22 2018

शहर में चार घंटों की बर्क़ी कटौती फिर नाफ़िज़ करने की तजवीज़

हैदराबाद 30 जनवरी (सियासत न्यूज़) रियासत में बर्क़ी सरबराही की सूरते हाल इंतिहाई अबतर होती जा रही है। ऐसे में तलब और सरबराही की ख़लीज में यौमिया 100 मैगावाट यूनिट के इज़ाफ़ा की तवक़्क़ो है। इस ख़तरनाक सूरते हाल को देखते हुए ए पी ट्रा

हैदराबाद 30 जनवरी (सियासत न्यूज़) रियासत में बर्क़ी सरबराही की सूरते हाल इंतिहाई अबतर होती जा रही है। ऐसे में तलब और सरबराही की ख़लीज में यौमिया 100 मैगावाट यूनिट के इज़ाफ़ा की तवक़्क़ो है। इस ख़तरनाक सूरते हाल को देखते हुए ए पी ट्रांस्को के ओहदेदार फिर एक बार शहरों में बर्क़ी कटौती नाफ़िज़ करने अज़ला और बलदीयात में जारी बर्क़ी कटौती में मज़ीद इज़ाफ़ा करने की तजवीज़ पेश कर रहे हैं।

ज़राए से पता चला है कि ए पी ट्रांस्को के ओहदेदार इन शहरों में 4 घंटों तक बर्क़ी कटौती नाफ़िज़ करने की तजवीज़ रखते हैं जहां फ़िलवक़्त किसी किस्म की बर्क़ी कटौती नहीं है और इस कटौती का नफ़ाज़ मार्च के अवाइल या वस्त से अमल में आ सकता है। बलदीयात और टाउंस में बर्क़ी कटौती में इज़ाफ़ा करते हुए उसे 8 घंटों की कर देने का भी मंसूबा है।

इसी दौरान आर एल एन जी 700 मैगावाट (यौमिया 16 एम यू) इज़ाफ़ी बर्क़ी की पैदावार का मंसूबा भी है जो 9 ता 10 रुपये फ़ी यूनिट दस्तयाब रहेगी। इस बर्क़ी का पेशकश ऐसे सनअती सारिफ़ीन को किया जाएगा जो ज़्यादा क़ीमतों पर भी बिजली ख़रीदने के लिए तैयार हैं। दूसरी जानिब मुख़्तलिफ़ गोशों की जानिब से शदीद मुख़ालिफ़त के बावजूद बर्क़ी कंपनीयां सारिफ़ीन पर फ़्यूल सरचार्ज एडजस्टमेंट (एफ़ एस ए) का एक और बोझ आइद करने की तजवीज़ रखती हैं।

इस मर्तबा डिस्ट्रीब्यूशन कंपनीयां 2012-13 के तीसरे सह माही के दौरान 1068 करोड़ रुपये जमा करने की ख़ाहां है। अगर इस तजवीज़ को इलेक्ट्रीसिटी रेगुलेट्री कमीशन मंज़ूरी देता है तो एफ़ एस ए का एक नया बोझ सारिफ़ीन पर आइद होगा जो पहले ही बर्क़ी बिलों पर वसूल किए जा रहे महसूल से परेशान हैं। मौजूदा महसूल बर्क़ी बिलों के 60 फ़ीसद तक पहूंच गया है।

अगर ऐसा होता है तो ये सारिफ़ीन पर बहुत ज़्यादा बोझ होगा क्योंकि गुजिश्ता 6 माह के दौरान 4 मर्तबा बर्क़ी चार्जेस में इज़ाफ़ा किया गया और अब पांचवें मर्तबा इज़ाफ़ा की बारी पूरी करली गई हैं। बताया जाता है कि एफ़ एस ए की तजवीज़ पर अमल करने से बर्क़ी बिल्स में ख़तरनाक हद तक इज़ाफ़ा हो सकता है।

TOPPOPULARRECENT