Wednesday , June 20 2018

शहर में हालात पुरअमन, बाअज़ मुक़ामात पर दुकानात बंद किए गए

हैदराबाद 09 जनवरी: मजलिस के रुकन असेंबली अकबर उद्दीन उवैसी की गिरफ़्तारी और निर्मल मुंतक़ली पर पुराने शहर में आज किसी क़दर कशीदगी फैल गई।

हैदराबाद 09 जनवरी: मजलिस के रुकन असेंबली अकबर उद्दीन उवैसी की गिरफ़्तारी और निर्मल मुंतक़ली पर पुराने शहर में आज किसी क़दर कशीदगी फैल गई।

ताहम पुलिस ने क़बल अज़वक़्त चौकसी इख़तियार करली थी। गिरफ़्तारी की इत्तेला मिलते ही पुराने शहर में बाअज़ मुक़ामात पर दुकानात बंद करदिए गए और अफ़्वाहों पर बाज़ार गर्म रहा।

ताहम पुलिस के एहतियाती इक़दामात की वजह से कोई नाख़ुशगवार वाक़िया पेश नहीं आया। बावसूक़ ज़राए के मुताबिक़ पुलिस को ये अंदेशा था कि अकबर उवैसी की गिरफ़्तारी के बाद शहर के हालात बिगड़ सकते हैं लेकिन ये सारे अंदेशे बेबुनियाद साबित हुए क्योंके आम शहरीयों में इस वाक़िये के ताल्लुक़ से ज़्यादा दिलचस्पी नहीं थी बल्के वो अपनी रोज़मर्रा की सरगर्मीयों में मशग़ूल देखे गए।

अकबर उवैसी की गिरफ़्तारी के बाद पुराने शहर के अलावा दुसरे इलाक़ों जैसे भोलक पुर, मुशिराबाद, टोली चौकी, मह्दी पटनम और मिले पली में भी बाज़ार बंद करवा दिए गए जिस की वजहे से अवाम की सड़कों पर नक़ल-ओ-हरकत कम होने लगी।

पुलिस को तमाम हस्सास इलाक़ों में तायुनात किया गया था। मुशिराबाद के इलाके भोलकपुर में दोनों फ़िरक़ों से ताल्लुक़ रखने वाले ग्रुपस ने एहतिजाज किया।

जिस की वजहे से हालात किसी क़दर कशीदा होगए। इन्सपैक्टर मुशिराबाद श्याम सुंदर ने ताहम एसे किसी वाक़िये की तरदीद की अकबर उद्दीन उवैसी को मेडीकल टेस्ट के लिए जब गांधी हॉस्पिटल लेजाया गया , पार्टी कारकुनों की कसीर तादाद हॉस्पिटल के बाहर जमा होगई थी।

इस मौके पर पुलिस को हुजूम पर क़ाबू पाने में मुश्किल पेश आई क्योंके वो हॉस्पिटल के बाब अलद अखिला पर रुकावटों को फलांग कर घुसने की कोशिश कररहे थे।

TOPPOPULARRECENT