Sunday , June 24 2018

शहीद लेफ्टिनेंट फैयाज कश्मीरीयों के लिए रोल मॉडल थे- आर्मी चीफ़

नई दिल्ली। कश्मीर घाटी में जारी हिंसा के बीच आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत का बयान सामने अाया है। रावत ने साफ किया है कि सेना आम कश्मीरियों के खिलाफ नहीं है। सेना सभी कश्मीरियों को आतंकी नहीं मानती।

उनके मुताबिक सेना का काम आतंकियों को कश्मीर की आम आबादी से अलग कर निशाना बनाना है। उन्हाेंने कहा, हम समझते हैं कि सभी कश्मीरी दहशतगर्दी का हिस्सा नहीं हैं। ऐसे सिर्फ चुनिंदा लोग हैं जो आतंक और हिंसा में लगे हैं।

जनरल रावत ने सभी कश्मीरियों से शहीद लेफ्टिनेंट उमर फैयाज के कत्ल की निंदा करने की मांग की। उनके मुताबिक, ये नौजवान अफसर सभी कश्मीरी युवाओं के लिए रोल मॉडल थे। उनकी हत्या कश्मीर को पीछे लेकर गई है, जबकि लेफ्टिनेंट उमर घाटी को भविष्य की राह दिखा रहे थे।

जनरल रावत ने इन खबरों को खारिज किया कि सेना घाटी में फिर से कॉर्डन एंड सर्च ऑपरेशन (कासो) चला रही है। उन्हाेंने कहा, हम कश्मीर में कासो ऑपरेशन्स की ओर नहीं लौट रहे हैं। हम जानते हैं ऐसी कार्रवाइयों से स्थानीय लोगों को तकलीफ होती है।

हम अभी सिर्फ एरिया सर्च ऑपरेशन चला रहे हैं। इन्हें घेराबंदी कहना गलत है। माना जा रहा है कि दक्षिणी कश्मीर में एरिया सर्च ऑपरेशन अमरनाथ यात्रा तक जारी रहेंगे। इस साल ये यात्रा 29 जून से शुरू होकर 7 अगस्त को खत्म होगी।

TOPPOPULARRECENT