शादी के लिए अब भी मर्दों का यरगमाल

शादी के लिए अब भी मर्दों का यरगमाल
इस साल जनवरी और फरवरी के दो महीनों में ही रियासत भर में यरगमाल के कुल 850 मामले मुखतलिफ़ जिलों के थानों में दर्ज कराये गये हैं। इनमें सबसे ज़्यादा यरगमाल को शादी के मकसद से अंजाम दिये जाने की बात सामने आती है।

इस साल जनवरी और फरवरी के दो महीनों में ही रियासत भर में यरगमाल के कुल 850 मामले मुखतलिफ़ जिलों के थानों में दर्ज कराये गये हैं। इनमें सबसे ज़्यादा यरगमाल को शादी के मकसद से अंजाम दिये जाने की बात सामने आती है।
408 नौजवानों का यरगमाल शादी के लिए गुजिशता दो महीनों में हुआ
850 ख़वातीन का यर्गमाल इस्मतरेजि की नीयत से किया गया

इश्क़ के ताल्लुक में अपने घर से फरार होने वाले जोडों के अहले खाना ने भी अपने बच्चों के यरगमाल के मामले मुखतलिफ़ थानों में दर्ज कराये हैं। दो महीनों में ही यह अदाद 164 पहुंच चुका है। सूबे में कत्ल के मक़सद से भी दो महीनों में कुल 41 लोगों को उठा लिया गया।
सबसे भयावह अदाद तो इस्मतरेजि जैसी वारदातों को अंजाम देने के मकसद के होने वाले यरगमला का है। साल के पहले ही दो महीनों में कुल 850 ख़वातीन को इस्मतरेजि के नीयत से उठा लिया गया है। ये अदाद रियासत पुलिस हेड क्वार्टर की हैं।

Top Stories