Friday , December 15 2017

शादी में इसराफ़ के ख़ातमे के लिए जनाब ज़ाहिद अली ख़ां की गिरांक़द्र ख़िदमात

जुनूबी हिंद के मुस्लिम मुआशरे से शादी ब्याह और् दुसरे तक़ारीब में बेजा रसूमात, इसराफ़ के ख़ातमे के लिए जनाब ज़ाहिद अली ख़ां एडीटर रोज़नामा सियासत की ख़िदमात इंतिहाई एहमीयत की हामिल हैं।

जुनूबी हिंद के मुस्लिम मुआशरे से शादी ब्याह और् दुसरे तक़ारीब में बेजा रसूमात, इसराफ़ के ख़ातमे के लिए जनाब ज़ाहिद अली ख़ां एडीटर रोज़नामा सियासत की ख़िदमात इंतिहाई एहमीयत की हामिल हैं।

यक़ीनन इन ख़िदमात को मुस्लिम मुआशरे के लिए नागुज़ीर क़रार दिया जा रहा है। आज नुमाइंदा सियासत निज़ामबाद जनाब मुहम्मद जावेद अली की ज़ेर क़ियादत एक वफ़द जिस में काबुले ज़िकर मौलाना शेख़ हैदर अल क़ासिम सदर तेलंगाना उल्मा कौंसिल ज़िला निज़ामबाद, जनाब तारिक़ अंसारी सदर ज़िला मुस्लिम एम्पावरमेंट फ़ोर्म, हाफ़िज़ मौलाना फ़हीम उद्दीन सदर मजलिस तहफ़्फ़ुज़ ख़त्म नबुव्वत कामा रेड्डी, सय्यद उसमान अली जनरल सेक्रेटरी मुस्लिम एम्पावरमेंट फ़ोर्म ने आज़म फंक्शन हाल पहूंच कर जनाब ज़ाहिद अली ख़ां से मुलाक़ात की और उनकी तरफ से शदीद हस्सास मिली मसला जो शादी ब्याह और बेजा रसूमात और इसराफ़ से मुताल्लिक़ है मुकम्मिल तहरीक पर गरमजोशाना मुबारकबाद दी और उसे जुनूबी हिंद की सतह पर तौसीअ देने की ख़ाहिश का इज़हार करते हुए मुफ़ीद मश्वरों से नवाज़ने की अपील की।

जनाब ज़ाहिद अली ख़ां ने तारिक़ अंसारी सदर मुस्लिम एम्पावरमेंट फ़ोर्म से कहा कि वो फ़िलफ़ौर शहर के उल्मा किराम, मोअज़्ज़िज़ीन और ज़िम्मेदारान, दानिश्वरान कि मीटिंग तलब करके इस मसले की एहमीयत से वाक़िफ़ करवाईं और क़ुरआन-ओ-हदीस की रोशनी में इसराफ़ और शादी ब्याह में सादगी को इख़तियार करके अल्लाह और इस के रसुल (PBUH)की लानत से बचाने के लिए कमर किस लें वर्ना बेजा रसूमात और इसराफ़ की लानत मुस्लिम मुआशरे को कैंसर की तरह हलाक करदेगी और बेयार-ओ-मददगार तबक़ा अपनी लड़कीयों को ज़िंदा दरगोर करदेगा।

TOPPOPULARRECENT