Sunday , December 17 2017

शामी अपोज़ीशन का जिनेवा मुज़ाकरात से पहले मुतालिबा

अमरीका ने शामी हिज़्बे इख़्तलाफ़ के जंग ज़दा मुल्क में महसूर इलाक़ों की नाका बंदी ख़त्म कराने और बमबारी रुकवाने से मुताल्लिक़ मुतालिबात को जायज़ क़रार दे दिया है लेकिन इस के बावजूद इस पर ज़ोर दिया है कि वो जिनेवा अमन मुज़ाकरात में शिरकत करे।

शामी हिज़्बे इख़्तलाफ़ के बड़े इत्तिहाद ने जुमेरात को सऊदी दारुल हुकूमत अल रियाज़ में अपने इजलास में मज़कूरा मुतालिबात पूरे होने तक जिनेवा मुज़ाकरात में शिरकत ना करने का फ़ैसला किया है और इस का कहना है कि उनसे क़ब्ल मुहासिर ज़दा शहरों और कस्बों में शहरीयों को ख़ुराक और ज़रूरी अशिया पहुंचाने के लिए समझौता तय पाया जाना चाहिए।

जिनेवा में अक़वामे मुत्तहिदा की सालिसी और मेज़बानी में आज जुमा को मुज़ाकरात शुरू हो रहे हैं। अमरीका ने एक जानिब तो हिज़्बे इख़्तलाफ़ के मुतालिबात के साथ हमदर्दी का इज़हार किया है और दूसरी जानिब ये कहा है कि अमन अमल का आग़ाज़ किया जाना चाहिए।

अमरीकी महकमा ख़ारजा के तर्जुमान मार्क टोनर ने जुमेरात को सहाफ़ीयों से गुफ़्तगु करते हुए कहा: ये फ़िलवक़्त एक तारीख़ी मौक़ा है कि वो (हिज़्बे इख़्तलाफ़) जिनेवा जाएं और जंग बंदी के नफ़ाज़ और एतेमाद की फ़िज़ा बहाल करने के लिए संजीदा और अमली इक़दामात तजवीज़ करें।

TOPPOPULARRECENT