Tuesday , July 17 2018

शामी ताजिर तुर्की में तरक़्क़ी की राह पर गामज़न

शाम में जारी ख़ाना जंगी के सबब हज़ारों शामी सनअतकार तुर्की में अपने कारोबार शुरू कर रहे हैं, जिसकी वजह से तुर्क मईशत को भी ख़ातिर ख़्वाह फ़ायदा पहुंच रहा है। 28 साला शामी मुहाजिर साद चोहाना के बाक़ौल अगर कोई शख़्स तुर्की में मआशी तौर पर अपने पैरों पर खड़ा हो सकता है, तो उस के लिए दुनिया के किसी भी मुल्क में मआशी तरक़्क़ी हासिल करना नामुम्किन नहीं।

तुर्की में ब्यूरोक्रेसी, सख़्त मुक़ाबले की फ़िज़ा और तवील-उल-मुद्दती बुनियादों पर क़ायम कारोबारी निज़ाम जैसी वजूहात बयान करते हुए इस ने बताया कि तुर्की एक मंडी के तौर पर दुनिया में मुश्किल तरीन मुलक है।

साद चोहाना का ताल्लुक़ शामी शहर हलब से है ताहम इन दिनों वो तुर्क शहर गाज़ीयाँ टेप में प्लास्टिक की अशिया बनाने वाली एक फ़ैक्ट्री चला रहे हैं। मुक़ामी ज़बान और सक़ाफ़त से वाक़िफ़ीयत चोहाना के काफ़ी काम आई।

इस तुर्क शहर में शामी रेस्तोराँ और कई मुक़ामात पर अर्बी ज़बान में दर्ज इश्तिहारात इस बात के अक्कास हैं कि वहां शामी आबादी में इज़ाफ़ा हो रहा है।

TOPPOPULARRECENT