Thursday , June 21 2018

शाम के बोहरान का सेयासी हल तलाश करना ज़रूरी

शाम की धमाका ख़ेज़ सूरत-ए-हालपर गहरी तशवीश ज़ाहिर करते हुए हिंदूस्तान ने ख़ाहिश की कि शाम के बोहरान का पुरअमन और सब को साथ लेकर सयासी तरीका कार इख़तियार किया जाना ज़रूरी है जिस की बिना पर शामी अवाम की शिकायात दूर हो सकें । अक़वाम-ए

शाम की धमाका ख़ेज़ सूरत-ए-हालपर गहरी तशवीश ज़ाहिर करते हुए हिंदूस्तान ने ख़ाहिश की कि शाम के बोहरान का पुरअमन और सब को साथ लेकर सयासी तरीका कार इख़तियार किया जाना ज़रूरी है जिस की बिना पर शामी अवाम की शिकायात दूर हो सकें । अक़वाम-ए-मुत्तहिदा में हिंदूस्तान के कारगुज़ार मुस्तक़िल सफ़ीर वनए कुमार ने कहा कि हिंदूस्तान को शाम की मौजूदा सूरत-ए-हाल पर सख़्त तशवीश है जिस के नतीजे में हज़ारों शहरी और फ़ौजी गुज़श्ता 11 माह में हलाक होचुके हैं। उन्हों ने कहा कि शाम में मसला बुनियादी तौर पर सयासी नवीत का है , हिंदूस्तान एहितजाजी मुज़ाहिरों के आग़ाज़ के वक़्त से ही मुतालिबा करता आरहा है कि शामी समाज के तमाम तबक़ात की शिकायात की यकसूई करने केलिए सयासी तरीका कार जो पुरअमन हो और जिस में तमाम अफ़राद को साथ लिया गया हो इख़तियार करना ज़रूरी है ।

वनए कुमार ने कहा कि हम तमाम तशद्दुद की बला लिहाज़ ख़ाती अफ़राद सख़्त मुज़म्मत करते हैं । हम इंसानी हुक़ूक़ की ख़िलाफ़ वरज़ीयों की भी मुज़म्मत करते हैं । हिंदूस्तान के पास इज़हार के हुक़ूक़ और पुर अमन इजतिमा के हुक़ूक़ दीगर बुनियादी इक़दार में शामिल किए गए हेंावर इन सब का एहतिराम लाज़िमी क़रार दिया गया है जबकि समाज के इस्तिहकाम और सेयानत को यक़ीनी बनाया गया है । हिंदूस्तान के कारगुज़ार मुस्तक़िल नुमाइंदा बराए अक़वाम-ए-मुत्तहिदा ने कहा कि हिंदूस्तान अपने इस नज़रिया पर सख़्ती से क़ायम है कि सयासी तरीका कार इख़तियार करते हुए शाम के मौजूदा सयासी बोहरान की यकसूई की जानी चाहीए कीवनका शाम का मसला बुनियादी तौर पर सयासी ही है ।

हिंदूस्तान को यक़ीन है कि बैन उल-अक़वामी बिरादरी शामी हुकूमत और शामी समाज के तमाम तबक़ात को साथ लेकर सयासी अमल के ज़रीया बोहरान की यकसूई में मददगार रहेगा ताकि तमाम शामी शहरियों की जायज़ उमनगों की तकमील होसके और उन्हें मुल़्क की ख़ुदमुख़तार , इत्तिहाद और इलाक़ाई यकजहती का तीक़न दिया जाना चाहीए और इस का एहतिराम भी ज़रूरी है ।

TOPPOPULARRECENT