Sunday , December 17 2017

शाम में फ़ौज से भागने वालों के लिए आम माफ़ी

शाम में सरकारी ख़बररसां एजेंसी का कहना है कि सदर बशारुल असद ने फ़ौजी सर्विस से दूर रहने या फ़ौज छोड़कर भागने वालों के लिए आम माफ़ी का ऐलान किया है।

न्यूज़ एजेंसी का कहना है कि सरकारी हुक्म नामे के मुताबिक़ ये माफ़ी उन लोगों के लिए है जिन्हों ने मुल्क छोड़ दिया है या फिर मुल्क में ही मौजूद हैं ताहम बाग़ीयों के हमराह नहीं हैं।

शाम में इंसानी हुक़ूक़ की पामाली पर नज़र रखने वाली तंज़ीम सीरीयन ऑब्ज़र्वेट्री फ़ॉर ह्यूमन राईट्स का कहना है कि मुल्क में 70000 अफ़राद लाज़िमी फ़ौजी सर्विस से दूर रहे हैं।

मार्च 2011 में शुरू होने वाली मुल्क में लड़ाई के बाइस अब तक 80000 फ़ौजी और हुकूमत हामी जंगजू मारे जा चुके हैं। मुल्क में बाग़ीयों और जिहादीयों से लड़ रही शामी फ़ौज ने लोगों की कमी को पूरा करने के लिए जुलाई में फ़ौज में भरतीयों की मुहिम शुरू की थी।

TOPPOPULARRECENT