Wednesday , June 20 2018

शाहराह रेशम को हिंदुस्तान के ‘मौसम’ से मरबूत करने का मंसूबा

जारीया हफ़्ता के सालाना दिफ़ाई मुज़ाकरात से पहले चीन ने हिंदुस्तान को चीन के पुर अज़म शाहराह रेशम को हिंदुस्तान के ‘मौसम’ प्रोजेक्ट से मरबूत करने पर आमादगी ज़ाहिर की ताकि हुकूमते हिन्द के दिफ़ाई अंदेशों का अज़ाला किया जा सके और मुशतर्

जारीया हफ़्ता के सालाना दिफ़ाई मुज़ाकरात से पहले चीन ने हिंदुस्तान को चीन के पुर अज़म शाहराह रेशम को हिंदुस्तान के ‘मौसम’ प्रोजेक्ट से मरबूत करने पर आमादगी ज़ाहिर की ताकि हुकूमते हिन्द के दिफ़ाई अंदेशों का अज़ाला किया जा सके और मुशतर्का मुफ़ादात हासिल किए जा सके।

मोतमिद दिफ़ा आर के माथुर हिंदुस्तान के दिफ़ाई वफ़्द की मुज़ाकरात में क़ियादत करेंगे जो 8 ता 9 अप्रैल मुनाक़िद किए जाऐंगे जिन के दौरे न दोनों ममालिक वसीअ तर इक़दामात पर तबादले ख़्याल करेंगे ताकि फ़ौज बहरीया और फ़िज़ाईया के दरमयान दोनों ममालिक के तआवुन में इज़ाफ़ा किया जा सके।

नुमायां बात ये है कि इस अहम मुलाक़ात से पहले वज़ारते ख़ारजा चीन ने कहा कि हिंदुस्तान के साथ अपने रवाबित में इज़ाफ़ा करने का चीन बेचैनी से मुंतज़िर है ताकि मुज़ाकरात के आइन्दा इजलास में जुनूबी एशीया खासतौर पर बहरे हिंद के इलाक़ा के बारे में अपनी हिकमते अमली ज़ाहिर कर सके।

वज़ारते ख़ारजा चीन के तर्जुमान ने कहा कि चीन जुनूबी एशियाई ममालिक बाशमोल हिंदुस्तान श्रीलंका के साथ काम करने के लिए तैयार है ताकि मुवासलाती पॉलिसी को मुस्तहकम किया जा सके।

उन पर चीन 40 अरब अमरीकी डॉलर ख़र्च कर रहा है। इलावा अज़ीं एशियाई इन्रासकस्ट्रक्चर सरमायाकार बैंक का 50 अरब अमरीकी डॉलर से आग़ाज़ भी किया जा रहा है।

TOPPOPULARRECENT