Wednesday , December 13 2017

शाहरुख ख़ान को अमेरीकी एयर पोर्ट दो घंटों तक रोक लिया गया

बाली वुड अदाकार शाहरुख ख़ान को आज नेता अंबानी के साथ एक ख़ानगी तय्यारा में अमेरीका पहूंचने के बाद न्यूयॉर्क के एक एयर पोर्ट पर दो घंटों तक हिरासत में रखा गया । शाहरुख ख़ां यालय यूनीवर्सिटी में तलबा से ख़िताब करने के लिए वहां पहूंचे थ

बाली वुड अदाकार शाहरुख ख़ान को आज नेता अंबानी के साथ एक ख़ानगी तय्यारा में अमेरीका पहूंचने के बाद न्यूयॉर्क के एक एयर पोर्ट पर दो घंटों तक हिरासत में रखा गया । शाहरुख ख़ां यालय यूनीवर्सिटी में तलबा से ख़िताब करने के लिए वहां पहूंचे थे । नेता अंबानी और इस ग्रुप में शामिल दीगर अफ़राद को एयर पोर्ट पर फ़ौरी क्लीयरेंस ( Clearness) दे दिया गया लेकिन शाहरुख ख़ान को वहां रोक लिया गया था और दो घंटों के बाद उन्हें वहां से जाने की इजाज़त दी गई ।

ज़राए ने पी टी आई को ये बात बताई । 46 साला शाहरुख ख़ान दो बजे दिन एक प्रेस कान्फ़्रैंस से ख़िताब करने के बाद चार बजे शाम यालय यूनीवर्सिटी में ख़िताब करने वाले थे । ताहम वो प्रेस कांफ्रेंस के लिए तीन घंटे ताख़ीर से पहूंचे और उन का एक घंटा तवील लेक्चर शाम छः बजे शुरू हुआ ।

शाहरुख ख़ां ने यालय यूनीवर्सिटी में ख़िताब के दौरान इमीग्रेशन हुक्काम के रवैय्या पर तंज़ करते हुए कहा कि जब कभी वो अपने आप के ताल्लुक़ से फ़ख़र महसूस करते हैं वो हमेशा ही अमेरीका का दौरा करने को तरजीह देते हैं। यहां इमीग्रेशन के हुक्काम किसी स्टार को इसकी हैसियत से नीचे ले आते हैं।

उन्होंने कहा कि इस तरह के हालात में भी वो छोटी मोटी कामयाबियां हासिल कर लेते हैं। उन्होंने कहा कि वो लोग ( इमीग्रेशन ओहदेदार ) उनसे हमेशा सवाल करते हैं कि इन का क़द कितना है और वो हमेशा गलत ब्यानी से काम लेते हैं और कहते हैं कि इनका क़द 5 फीट 10 इंच है ।

आइन्दा अगर उन से ऐसा ही सवाल किया गया तो वो और भी गलत ब्यानी से काम लेंगे । अगर उनसे सवाल किया गया है इनका रंग किया है तो वो कह देंगे वो सफेद फ़ाम हैं। क़ब्ल अज़ीं जब यालय यूनीवर्सिटी के ओहदेदारों को ये इत्तिला मिली कि शाहरुख ख़ान को न्यूयॉर्क के व्हाइट प्लैन्स एयर पोर्ट पर रोक लिया गया है तो उन्होंने डिपार्टमेंट आफ़ होमलैंड सिक्योरीटी और महकमा अमेरीकी इमीग्रेशन और कस्टम्स के ओहदेदारों से बात चीत की ।

उन्होंने कहा कि इस वाक़्या पर शाहरुख ख़ां बहुत ज़्यादा मायूस हैं और यूनीवर्सिटी हुक्काम को उन्हें मनाने के लिए काफ़ी जद्द-ओ-जहद करनी पड़ी थी । इस दौरान नई दिल्ली से मौसूला इत्तेला के बमूजब शाहरुख ख़ान को न्यूयॉर्क एयर पोर्ट पर रोक लिए जाने पर शदीद रद्द-ए-अमल का इज़हार करते हुए हिंदूस्तान ने आज कहा कि ऐसे वाक़्यात पर अमेरीका की जानिब से महिज़ माज़रत ख़्वाही काफ़ी नहीं होगी और इस मसला को अमेरीका में आली हुक्काम से रुजू किया जाएगा।

न्यूयॉर्क के एक एयर पोर्ट पर शाहरुख ख़ान को रोक लिया गया था और हिंदूस्तानी कौंसिल जनरल की मुदाख़िलत के बाद उन्हें रिहा किया गया । कौंसिल जनरल की मुदाख़िलत के बाद अमेरीकी कस्टम्स एंड बॉर्डर प्रोटेक्शन हुक्काम ने उन्हें एक मकतूब हवाले करते हुए इस वाक़्या पर माज़रत ख़्वाही की है ।

ताहम वज़ीर ख़ारिजा मिस्टर एस एम कृष्णा ने हिंदूस्तानी सफ़ीर निरूपमा राव से कहा है कि वो ये मसला आला अमेरीकी हुक्काम से रुजू करें। ज़राए के बमूजब इमीग्रेशन हुक्काम ने मकतूब में कहा कि शाहरुख ख़ान का नाम वहां मख़सूस ज़मुरा में शामिल है और उन्हें क्लीयय करने से क़ब्ल सिनीयर ओहदेदारों से इजाज़त लेना ज़रूरी था ।

मिनिस्टर आफ़ स्टेट पारलीमानी उमूर मिस्टर राजीव शुक्ला ने भी शाहरुख ख़ान वाक़्या पर अफ़सोस का इज़हार किया और कहा कि ये मुनासिब इक़दाम नहीं था । उन्होंने वाज़िह किया कि शाहरुख ख़ान के साथ अमेरीका में ऐसा पहली मर्तबा नहीं हुआ है । उन्होंने कहा कि होमलैंड सिक्योरीटी को चाहीए कि वो मुनासिब डाटा बैंक इस्तेमाल करते हुए काम करे ।

उन्होंने कहा कि उन्हें ख़ुशी है कि वज़ीर ख़ारिजा ने इस मसला को संजीदगी से लिया है ।

TOPPOPULARRECENT