Friday , December 15 2017

शाहीद अली खान पर लगाया गया इल्ज़ाम बेबुनियाद : अबुल कलाम कासमी

मौलाना अबुल कलाम कासमी समसी ने चेयरमैन एसोसिएशन फॉर एजुकेशनल एंड डेव्लपमेंट ने प्रेस रिलीज में कहा है के शाहीद अली खान वजीरे अक्लियती फ्लाह साफ सुथरे किरदार के हमील हैं। उनके वालिद मुजाहिदे आज़ादी रह चुके हैं और उनका खानदान बवका

मौलाना अबुल कलाम कासमी समसी ने चेयरमैन एसोसिएशन फॉर एजुकेशनल एंड डेव्लपमेंट ने प्रेस रिलीज में कहा है के शाहीद अली खान वजीरे अक्लियती फ्लाह साफ सुथरे किरदार के हमील हैं। उनके वालिद मुजाहिदे आज़ादी रह चुके हैं और उनका खानदान बवकार है। समाजी खिदमत के लिए मशहूर है। खुद शाहीद अली खान तकरीबन 25 बरसों से सियासत में है और आवाम व खवास के दरमियान मक़बूल हैं। किसी अजनबी ने उनसे अपने ताल्लुक का इज़हार किया जिसकी तफ़तीशी एजेंसी के जरिये जांच की गयी जिसमें उनपर लगाया गया इल्ज़ाम बे बुनियाद पाया गया और जांच एजेंसी ने उन्हे बेदाग करार दे दिया।

मगर अफसोश की बात है के इस बेबुनियाद इल्ज़ाम पर तरह-तरह से बहस की जा रही है। जहां तक इस बेबुनियाद इल्ज़ाम पर बीजेपी के जरिये शोर मचाने की बात है तो ये कोई नयी बात नहीं है। उनकी नज़र में तो हर मुसलमान गलत शोबिया का है। मुस्लिम मुखालिफ नज़रिये के लोग मुसलमानों को हमेशा शक की निगाह से देखते हैं और उन्हे बदनाम करने की साजिश करते हैं। साफ सुथरे किरदार के हमील जनाब शाहीद अली खान वजीरे अक्लियती फ्लाह पर लगाया गया इल्ज़ाम भी साजिश का हिस्सा है और उन्हे दागदार करने की कोशिश की गयी है, जो कबीले मज़मत है। ऐसे मौके पर शहीद अली खान वजीरे अक्लियती फ्लाह को ब हौसला रहने की ज़रूरत है।

TOPPOPULARRECENT