शिया- सुन्नी एकता में जान बूझकर मतभेद पैदा करते हैं पश्चिमी देश- हसन रुहानी

शिया- सुन्नी एकता में जान बूझकर मतभेद पैदा करते हैं पश्चिमी देश- हसन रुहानी

हैदराबाद। तीन दिन की भारत यात्रा पर आये ईरान के राष्ट्रपति हसन रुहानी ने हैदराबाद यात्रा के दौरान शिया और सुन्नी समुदाय के बीच एकता की ज़रूरत पर ज़ोर दिया है।

उन्होंने आरोप लगाया कि इराक़ और सीरिया जैसे देशों में पश्चिमी देश उनके बीच जान-बूझकर मतभेद पैदा कर रहे हैं।

उन्होंने भारत को विभिन्न धार्मिक समुदायों के बीच ‘शांति और सह-अस्तित्व का उद्गम’ बताते हुए इस देश की सराहना की।

रुहानी ने कहा, “भारत अलग-अलग धर्मों और मतों के मानने वालों को शांति से एक साथ रहने का उदाहरण रहा है। यहां ये लोग सदियों से साथ रह रहे हैं। शिया, सुन्नी, सूफ़ी और सिख साथ रहते हुए सदियों से देश और सभ्यता का निर्माण कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि ईरान भारत समेत क्षेत्र के सभी देशों के साथ भाईचारे का रिश्ता बढ़ाना चाहता है।

Top Stories