Monday , December 11 2017

शीया मलेशिया रमादी के क़रीब, अमरीका भी मदद करेगा

इराक़ के सब से बड़े सूबे उल-अंबार के दार-उल-हकूमत रमादी का क़बज़ा शिद्दत पसंद तंज़ीमदौलत-ए-इस्लामीया से वापिस लेने की कार्रवाई में शिरकत के लिए शीया मलेशिया के हज़ारोंजंगजू रमादी के नवाह में जमा होगए हैं। उधर अमरीका ने भी इस कार्रवाई

इराक़ के सब से बड़े सूबे उल-अंबार के दार-उल-हकूमत रमादी का क़बज़ा शिद्दत पसंद तंज़ीमदौलत-ए-इस्लामीया से वापिस लेने की कार्रवाई में शिरकत के लिए शीया मलेशिया के हज़ारोंजंगजू रमादी के नवाह में जमा होगए हैं। उधर अमरीका ने भी इस कार्रवाई में इराक़ी फ़ौज की मदद का ऐलान किया है।

अमरीकी महिकमा-ए-दिफ़ा का ये भी कहना है कि इस कार्रवाई में शीया मलेशिया के किरदार की गुंजाइश भी मौजूद है बशर्तिके ये जंगजू इराक़ी हुकूमत के कंट्रोल में रहें। दाइश के शिद्दत पसंदों ने इतवार को रमादी पर क़बज़ा कर लिया था।

महिकमा-ए-दिफ़ा के एक तर्जुमान कर्नल स्टीव वार्न ने पैर को सहाफ़ीयों से बातचीत में कहा कि जवाबी हमले के वक़्त का ताय्युन करना इराक़ी हुकूमत का काम है लेकिन इस कार्रवाई में इसे अमरीकी मदद हासिल रहेगी।

बग़दाद से सिर्फ़ 70 मेल की दूरी पर वाक़ै रमादी के एक सरकारी अहलकार के मुताबिक़ शहर से बड़ी तादाद में अफ़राद नक़्ल-ए-मकानी कर रहे हैं जबकि एक और सरकारी अहलकार के मुताबिक़ दौलत-ए-इस्लामीया के हमले में आम शहरीयों समेत 500 के क़रीब लोग हलाक हुए हैं।

TOPPOPULARRECENT