शीला दीक्षित का बड़ा बयान, कहा- आतंक के खिलाफ मनमोहन सिंह से ज्यादा सख्त हैं मोदी

शीला दीक्षित का बड़ा बयान, कहा- आतंक के खिलाफ मनमोहन सिंह से ज्यादा सख्त हैं मोदी
शीला दीक्षित ने ये भी माना कि 26/11 आतंकी हमलों के बाद पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह का रूख ‘वैसा सख्त और दृढ़ नहीं था’ जैसा पुलवामा में हुए आतंकी हमलों के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का रहा.

हालांकि शीला दीक्षित ने नरेंद्र मोदी पर राजनीतिकरण का आरोप लगाते हुए कहा कि वे राजनीति के लिए कुछ भी कर सकते हैं.

एक निजी चैनल के कार्यक्रम में वीर सांघवी से बात करते हुए शीला दीक्षित ने कहा ‘मैं सहमत हूं कि मनमोहन सिंह मोदी की तरह मजबूत और दृढ़ निश्चयी नहीं थे. हालांकि, एक भावना यह भी है कि वे (मोदी) ये सब राजनीति के लिए कर रहे हैं.’
गत 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमलों में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के 40 जवान शहीद हो गए थे.

इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुरक्षाबलों को खुली छूट दिए जाने की बात कही थी.

भारतीय वायुसेना ने गत 26 फरवरी को पाक के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों पर एयर स्ट्राइक की थी. हालांकि, इस कार्रवाई में मारे गए आतंकियों की संख्या पर बयानबाजी जारी है.
NTRO के मुताबिक कार्रवाई के वक्त बालाकोट में 300 मोबाइल सक्रिय थे.

वायुसेना की कार्रवाई को भारत सरकार ने  आतंक के खिलाफ ‘अ-सैन्य’ (non-military) करार दिया था.

बता दें कि 26-11-2008 को मुंबई में आतंकी हमला हुआ था. इसमें 160 से ज्यादा लोग मारे गए थे. बाद में इस हमले में दोषी पाए गए एकमात्र आतंकी अजमल कसाब को फांसी की सजा दी गई थी. कसाब को सुरक्षाबलों ने जिंदा पकड़ा था.

Top Stories