Tuesday , December 12 2017

शोभा डे बयान पर कायम…..गलती नही तो माफी कैसी!

नई दिल्ली: महाराष्ट्र हुकूमत के मल्टीप्लेक्स में प्राइम टाइम में मराठी फिल्म दिखाने के फरमान पर तब्सिरा कर मुश्किल में फंसी मुसन्निफा शोभा डे ने कहा कि मैं माफी नहीं मांगूंगी। माफी उसे मांगनी चाहिए जो गलती करता है। मैंने कोई गल

नई दिल्ली: महाराष्ट्र हुकूमत के मल्टीप्लेक्स में प्राइम टाइम में मराठी फिल्म दिखाने के फरमान पर तब्सिरा कर मुश्किल में फंसी मुसन्निफा शोभा डे ने कहा कि मैं माफी नहीं मांगूंगी। माफी उसे मांगनी चाहिए जो गलती करता है। मैंने कोई गलती नहीं की है। तो मैं माफी क्यों मांगूं। जो होगा वो देखा जाएगा।

शोभा डे ने कहा कि सामना ने मेरे लिए गलत ज़ुबान का इस्तेमाल किया है। मराठी फिल्मों के फैसले पर हुकूमत दादागिरी कर रही है। महाराष्ट्र की देवेंद्र फडणवीस की हुकूमत ने रियासत के सारे मल्टीप्लेक्स में प्राइम टाइम में मराठी फिल्में दिखाना जरूरी कर दिया है। इसके मुताबिक मल्टीप्लेक्स में हर रोज शाम 6 से 9 बजे का प्राइम टाइम मराठी फिल्मों के लिए रिजर्व रखना होगा।

जानी मानी मुसन्निफा शोभा डे ने इस फरमान का एहतिजाज किया है। शोभा डे ने इस मुद्दे पर कहा कि मराठी सिनेमा अच्छा है। ये कुछ अज़ीम फिल्में देता है। इसे पूरे महाराष्ट्र में प्रमोट होना चाहिए। हुकूमत उन्हें सब्सिडी दे सकती है, उनके लिए बुनियादी ढांचा तैयार कर सकती है, डिस्ट्रीब्यूशन और मार्केटिंग में मदद कर सकती है और उन्हें दिखाने के लिए मल्टीप्लेक्स भी किराये पर ले सकती है लेकिन हुकूमत मराठी सिनेमा को इस तरह लाज़मी नहीं कर सकती।

इसके बाद शोभा डे ने इस मुद्दे पर एक के बाद एक ट्वीट किए। शोभा ने ट्वीट किया कि देवेंद्र “डिक्टेटवाला” फडणवीस ने फिर वही किया।

गाय के गोश्त से लेकर मूवी तक। ये वो महाराष्ट्र नहीं है जिसे हम सब प्यार करते हैं। नाको! नाको! ये सब रोको!

TOPPOPULARRECENT