Monday , September 24 2018

शौहर की इस्तेहसाल से तंग होकर फेसबुक फ्रेंड के साथ भागी नेहा

एफआइआर में मरी मान ली गयी नेहा अपने फेसबुक फ्रेंड के यहां थी। गायब होने के 26 वें दिन वह वापस मुजफ्फरपुर लौट आयी। नेहा 23 अगस्त को हाथी चौक वाक़ेय ससुराल से लापता हो गयी थी। इसका इल्ज़ाम उसके शौहर और ससुराल के दीगर लोगों पर लगा था। अहल

एफआइआर में मरी मान ली गयी नेहा अपने फेसबुक फ्रेंड के यहां थी। गायब होने के 26 वें दिन वह वापस मुजफ्फरपुर लौट आयी। नेहा 23 अगस्त को हाथी चौक वाक़ेय ससुराल से लापता हो गयी थी। इसका इल्ज़ाम उसके शौहर और ससुराल के दीगर लोगों पर लगा था। अहले खाना ने थाने में जो एफआइआर दर्ज कराया था उसमें नेहा की कत्ल कर लाश को गायब करने का इल्ज़ाम लगाया गया था। मामले में पुलिस ने नेहा के शौहर मंजीत को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। नेहा के वापस लौटने से मामले में नया मोड़ आ गया है। वापस लौटने पर बुध को नगर थाने पर डीएसपी उपेंद्र कुमार ने नेहा से पूछताछ की।

फेसबुक के दोस्त के यहां ठहरी थी
नेहा ने पुलिस को बयान दिया है कि शादी के दो साल पहले से ही पटना के एक सख्स से उसकी दोस्ती थी। यह दोस्ती उसकी फेसबुक के सहारे हुई थी। दोनों के दरमियान अक्सर बातचीत भी होती थी। 23 अगस्त को वह पटना चली गयी थी। स्टेशन पर उसका दोस्त उसे लेने आया था। दोनों के दरमियान गहरी दोस्ती है। वह 20 दिनों से ज़्यादा वक़्त तक एक लॉज में रह रही थी। तफ़सीश से यह भी पता चला है कि नेहा ने अपने वकील को फोन किया था।

शौहर की इस्तेहसाल से तंग होकर भागी
पूछताछ में नेहा ने बताया कि शादी के बाद से ही मंजीत उसे परेशान करता था। मुखालिफत करने पर उसके साथ मारपीट की जाती थी। 23 अगस्त को भी उसके साथ मारपीट की गयी, जिसके बाद वह ससुराल से फरार हो गयी। वह पटना में रह रही थी। बताया जाता है कि स्टेशन के नजदीक से पुलिस ने उसे बरामद किया था। वह बिना पैसे के ही पटना से मुजफ्फरपुर आ गयी थी। पुलिस ने नेहा के बयान की वीडियोग्राफी करायी है।

यह था मामला
26 अगस्त को शहर थाना इलाक़े के ब्राह्मण टोली रिहायसी पूनम देवी ने मिठनपुरा थाने में अपनी बेटी नेहा की कत्ल कर लाश को गायब कर देने की सनाह दर्ज करायी थी। माममले में शौहर मंजीत सिंह के अलावा रंजीत सिंह, सुधा कौर और सोनी को नामजद किया गया था। इसके बाद से ही तमाम मुल्ज़िम फरार हैं। सिर्फ शौहर मंजीत को ही पुलिस गिरफ्तार कर पायी है। नेहा के गायब होने के बाद खातून तंज़िमों ने मुजाहेरा किया था नेहा के कतीलों को सजा दिलाने के लिए कैंडिल मार्च निकाला गया था। इस मामले में पुलिस पर लापरवाही बरतने का इल्ज़ाम लगाया था। एपवा ने इंसानी सिरीज़ बनाकर नेहा को इंसाफ दिलाने की मांग की थी।

TOPPOPULARRECENT