Monday , November 20 2017
Home / India / श्रीनगर के कुछ हिस्सों में कर्फ्यू, जामा मस्जिद में लगातार 18 वीं बार शुक्रवार की नमाज अदा नहीं की गई

श्रीनगर के कुछ हिस्सों में कर्फ्यू, जामा मस्जिद में लगातार 18 वीं बार शुक्रवार की नमाज अदा नहीं की गई

SRINAGAR, OCT 10 (UNI)- Security personnel closed Budshah bridge in Srinagar on Monday. UNI PHOTO-20U

श्रीनगर: कश्मीर के कुछ नागरिक भागों में आज कर्फ्यू लागू कर दिया गया और अन्य जिलों के कुछ संवेदनशील क्षेत्रों में सीमाएं लागू की गई थीं ताकि अलगाववादियों के मंसूबों को नाकाम किया जा सके। पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि शहर के 5 पुलिस स्टेशन क्षेत्रों में कर्फ्यू एहतियाती उपाय के तौर पर लागू किया गया। इन क्षेत्रों में राईनावाड़िय और महाराजगंज शामिल हैं।

इस तरह की सीमाएं पृष्ठभूमि अलगाववादियों की जनता से अपील की है कि शुक्रवार की नमाज के बाद रैली के लिए इकट्ठा हों। इस बीच कश्मीर प्रशासन ने श्रीनगर के पाईन शहर में कर्फ्यू करके जामा मस्जिद में लगातार 18 वीं शुक्रवार को प्रार्थना करने की अनुमति नहीं दी। स्थानीय लोगों ने बताया कि जामा मस्जिद के चारों ओर सुरक्षा बलों को घेर इतना सख्त था कि मस्जिद में अजान नहीं दी जा सकती।

उल्लेखनीय है कि श्रीनगर के इस ऐतिहासिक जामा मस्जिद में हर शुक्रवार को हजारों की संख्या में लोग घाटी के विभिन्न इलाकों से आकर शुक्रवार की नमाज अदा करते रहे हैं। मीरवाइज़ उमर फ़ारूक़ जो राष्ट्र मजलिस उल्मा जम्मू-कश्मीर के अमीर भी हैं, खुद इस ऐतिहासिक मस्जिद में शुक्रवार धर्मोपदेश पढ़ते हैं। हालांकि मीरवाइज़ ने नजरबंदी तोड़ते हुए जामा मस्जिद की ओर जाने की कोशिश की। हालांकि राज्य पुलिस और सुरक्षा बलों की एकमात्र ने इस कोशिश को नाकाम बनाते हुए उन्हें हिरासत में ले लिया।

अधिकारियों ने बताया कि सुरक्षा बलों ने जामा मस्जिद की ओर जाने वाली कई एक सड़क कांटेदार तार द्वारा नाकाबंदी कर दी। उन्होंने बताया कि अलगाववादी नेतृत्व द्वारा दिए गए ‘ऐतिहासिक जामा मस्जिद चलो’अपील को सफल बनाने के लिए नवहटह (जहां जामा मस्जिद स्थित है) सहित पाईन शहर के अन्य क्षेत्रों में सख्त कर्फ्यू लागू किया गया था हकाम ने ऐतिहासिक जामा मस्जिद में 8 जुलाई को हिज्बुल मुजाहिदीन कमांडर बुरहान वाणी की मौत के बाद प्रार्थना भुगतान प्रतिबंध लगा रखा है। घाटी में बुरहान वाणी की हत्या के बाद भड़के उठने वाली विरोध प्रदर्शनों में अभी कम से कम 90 नागरिक मारे गए 15 हजार अन्य घायल हो गए हैं।

TOPPOPULARRECENT