Saturday , December 16 2017

श्रीलंका में मसाजिद के ख़िलाफ़ बुद्धिस्टों की नई शरपसंदी

क़ाहिरा/श्रीलंका 20 मार्च (एजेंसीज़) हलाल फ़ूड के ख़िलाफ़ अपनी मुहिम में कामयाबी महसूस करने वाले श्रीलंका के इंतेहापसंद बुद्धिस्टों ने अपनी बदनिगाही मसाजिद पर डाली है । ये बुद्धिस्ट दसवीं सदी के क़दीम मुस्लिम इबादतगाहों को शही

क़ाहिरा/श्रीलंका 20 मार्च (एजेंसीज़) हलाल फ़ूड के ख़िलाफ़ अपनी मुहिम में कामयाबी महसूस करने वाले श्रीलंका के इंतेहापसंद बुद्धिस्टों ने अपनी बदनिगाही मसाजिद पर डाली है । ये बुद्धिस्ट दसवीं सदी के क़दीम मुस्लिम इबादतगाहों को शहीद करने की अपील कर रहे हैं।

सेक्रेट्री जेनरल बुद्धिस्ट फ़ोर्स गलबोथ घुनासिरा थेरो ने कहा कि उन के ग्रुप ने कोलंबो के कौरवगला मसाजिद में इबादत तर्क कर देने के लिए 30 अप्रैल तक मुसलमानों को मोहलत दी है । उन्हों ने ज़ोर देकर कहा कि ये मसाजिद दरअसल बुद्धिस्टों की इबादत गाहें हैं जिन पर मुसलमानों ने क़ब्जा किया था।

उन्हों ने बुद्धिस्टों पर ज़ोर दिया कि वो श्रीलंका की क़दीम मसाजिद को शहीद करने के लिए उन की कोशिशों का साथ दें। कौरवगला को बुद्धिस्टों का क़दीम काम्प्लेक्स क़रार दिया जाता है जिस में मुतअद्दिद चट्टानें हैं। इन काम्प्लेक्सेस की क़दीम तारीख क़ब्ल मसीह की दूसरी सदी से ताल्लुक़ रखती है ।

श्रीलंका के उल्मा की असल तंज़ीम ऑल जमीअतुल उलमा ने कहा कि हलाल से मुताल्लिक़ सदाक़त नामे अब इस्लामी ममालिक को भेजी जाने वाली बरामदी चीजों तक महिदूद रहेंगे। मुफ़्ती रिज़वी ने कहा कि सूपर मार्केट में अब अश्या गराहक पर हलाल सर्टीफिकेट नहीं रहेंगे।

TOPPOPULARRECENT