Sunday , January 21 2018

श्रीलंका में मुसलमानों का एहतिजाजी मुज़ाहरा

कोलंबो, २५ सितंबर ( पी टी आई ) हज़ारों श्रीलंकन मुसलमानों ने आज इंतिहाई सिक्योरिटी वाले अमेरीकी सिफ़ारतख़ाना की सिम्त ( समीप) मार्च किया और इहानत इस्लाम ( इस्लाम को अपमानित करने) वाली फ़िल्म की मुज़म्मत ( निंदा) करते हुए अमेरीकी एशिया प

कोलंबो, २५ सितंबर ( पी टी आई ) हज़ारों श्रीलंकन मुसलमानों ने आज इंतिहाई सिक्योरिटी वाले अमेरीकी सिफ़ारतख़ाना की सिम्त ( समीप) मार्च किया और इहानत इस्लाम ( इस्लाम को अपमानित करने) वाली फ़िल्म की मुज़म्मत ( निंदा) करते हुए अमेरीकी एशिया पर इमतिना आइद करने ( प्रतिबंध/ रोक लगाने) का मुतालिबा किया है ।

इस एहतिजाजी मुज़ाहरा में 20,000 मुसलमानों ने शिरकत की और उन्होंने मुतालिबा किया कि अमेरीकी एशिया का बाईकॉट करते हुए एहतिजाज दर्ज करवाना चाहीए । जुमा के बाद से कोलंबो में ये दूसरा एहतिजाजी मुज़ाहरा था । अमेरीकी सिफ़ारतख़ाना को आज एहतियाती इक़दाम के (सुरक्षा) तौर पर बंद कर दिया गया था ।

आज के पुरअमन एहतिजाजी मार्च की क़ियादत बरसर-ए-इक्तदार ( शासित) यू पी एफ ए इत्तिहाद के मौलाना अलवी ने की जो मग़रिबी सूबा ( प्रान्त) के गवर्नर भी हैं। एहतिजाजियों के हाथों में प्ले कार्डस भी थे जिन पर मुतालिबा था कि अमेरीका यू ट्यूब पर इस फ़िल्म पर इमतिना आइद कर ( प्रतिबंध लगा) दे ।

फ़िल्म बनाने वालों को सज़ा दी जाय और हमारा दिल ज़ख्मी है और सीना ग़ुस्सा से भरा हुआ है । फ़िल्म पर तन्क़ीद और एहतिजाज को देखते हुए हुकूमत श्रीलंका ने कल ही अहकाम जारी करते हुए श्रीलंका में इस फ़िल्म पर इमतिना आइद कर ( प्रतिबंध लगा) दिया था । 20 मिलियन आबादी वाले इस मुल्क में सात फीसद मुसलमान हैं।

मुस्लमानों के इस एहतिजाज को बुद्धिस्ट राहिबों और तिजारती यूनियनों के इलावा दीगर ( अन्य) मज़ाहिब के मानने वालों की भी ताईद रही और उन्होंने भी एहतिजाज में हिस्सा लिया । एहतिजाजी मुज़ाहरा ( प्रदर्शन) में कमसिन बच्चों की भी कसीर ( ज्यादा) तादाद ने हिस्सा लिया ।

TOPPOPULARRECENT