Thursday , June 21 2018

संगा रेड्डी फ़सादाद मुतास्सिरीन की बाज़ आबादकारी के लिए नुमाइंदगी

हैदराबाद ०६। अप्रैल :हिंदूस्तान के किसी भी मुक़ाम पर किसी भी तहवार के मौक़ा पर मुस्लमानों की जान-ओ-माल से खिलवाड़ करना और क़ानून की हुक्मरानी का मज़ाक़ उड़ाना ला ऐंड आर्डर की ख़िलाफ़वरज़ी करना मुस्लिम दुश्मन ताक़तों के लिए इंतिह

हैदराबाद ०६। अप्रैल :हिंदूस्तान के किसी भी मुक़ाम पर किसी भी तहवार के मौक़ा पर मुस्लमानों की जान-ओ-माल से खिलवाड़ करना और क़ानून की हुक्मरानी का मज़ाक़ उड़ाना ला ऐंड आर्डर की ख़िलाफ़वरज़ी करना मुस्लिम दुश्मन ताक़तों के लिए इंतिहाई आसान हो गया है । हर फ़साद मुस्लमानों के वजूद और बक़ा के लिए चैलेंज बनता जा रहा है ।

इन वाक़ियात का सिलसिला नहीं रोका गया तो मुस्लिम तारीख़के औराक़ में तस्वीर बन कर रह जाएगा । मह‌कमा पुलिस में आर एस एस ज़हन रखने वाले अफ़राद की अक्सरीयत और चंद मुख़ालिफ़ मुस्लिम अज़ाइम रखने वाले सियासतदानों की सरपरस्ती के बगै़र ऐसे बदनुमा वाक़ियात का रौनुमा होना नामुमकिन है जिन्हें मुस्लमानों का वजूद बर्दाश्त नहीं होता । जिस की एक और बदतरीन मिसाल संगा रेड्डी का हालिया फ़साद है ।

ये तास्सुरात ऑल इंडिया मुस्लिम फ्रंट के वफ़द के हैं जिस ने कल ही संगा रेड्डी में रौनुमा होने वाले फ़साद का मौक़ा मुआइना किया और मुतास्सिरीन से उन की दुख भरी दास्तान सुनी । ऑल इंडिया मुस्लिम फ्रंट के वफ़द ने जिस में हम्मद उसमान शहीद सदर फ्रंट , मुहम्मद इला-ए-उद्दीन अंसारी नायब सदर के इलावा मुहम्मद अहमद अली ऑफ़िस सैक्रेटरी शामिल थे ।

ज़िला कुलैक्टर से मुलाक़ात कर के तहरीरी याददाश्त पेश की और मुतालिबा किया कि मुतास्सिरीन को हुकूमत उन के नुक़्सानात की पा बजाई के लिए मुनासिब मुआवज़ा अदा करे क्यों कि दस्तूर हिंद की रोओ से हुकूमत एक वेलफेयर‌ स्टेट है जिस का फ़रीज़ा है कि वो शहरीयों के जान-ओ-माल की हिफ़ाज़त करे । क‌लैक्टर ने वफ़द के मुतालिबे से इत्तिफ़ाक़ करते हुए कहा कि इस सिलसिले में मुनासिब कार्रवाई बहुत जल्द होगी और मुतास्सिरीन को यक़ीनन ज़रूर बह ज़रूर मुआवज़ा अदा किया जाएगा ।

मह‌कमा माल के ओहदेदार इस काम पर मामूर कर दिए गए हैं । वफ़द ने मुतास्सिरीन से कहा कि वो नुक़्सानात की पा बजाई के लिए ज़िला क‌लैक्टर कौर अस्तदरख़ास्त दे कर रसीद हासिल कर लीं । वफ़द ने हुकूमत से मुतालिबा किया कि वो मुताल्लिक़ा पुलिस ओहदेदारों के ख़िलाफ़ ताअज़ीरात-ए-हिंद की दफ़ा 107 के तहत क़ानूनी कार्रवाई करे ।।

TOPPOPULARRECENT