Tuesday , December 19 2017

संजीव भट्ट के ख़िलाफ़ क़ानूनी कार्रवाई पर हुक्म अलतवा से इनकार

गुजरात हाईकोर्ट ने मुअत्तल आई पी एस ओहदेदार संजीव भट्ट के ख़िलाफ़ 1990 पुलिस मज़ालिम मुक़द्दमा के सिलसिले में जारी क़ानूनी कार्रवाई पर अलतवा से इनकार कर दिया । अदालत ने रियास्ती हुकूमत को उनकी दरख़ास्त पर 6 मार्च तक जवाब देने की हिदायत

गुजरात हाईकोर्ट ने मुअत्तल आई पी एस ओहदेदार संजीव भट्ट के ख़िलाफ़ 1990 पुलिस मज़ालिम मुक़द्दमा के सिलसिले में जारी क़ानूनी कार्रवाई पर अलतवा से इनकार कर दिया । अदालत ने रियास्ती हुकूमत को उनकी दरख़ास्त पर 6 मार्च तक जवाब देने की हिदायत दी ।

जस्टिस अनंत एस डावे ने संजीव भट्ट की दायर कर्दा दरख़ास्त की समाअत करते हुए ये नोटिस जारी की । उन्होंने जामनगर डिस्ट्रिक्ट कोर्ट के हुक्मनामा को चैलेंज किया है जिसने दो दहिय क़दीम मुक़द्दमा में दरख़ास्त नज़रसानी दायर करने में ताख़ीर की बिना माफ़ी की ख़ाहिश की थी ।

अदालत ने रियास्ती हुकूमत से कहा है कि संजीव भट्ट की दरख़ास्त पर 6 मार्च को होने वाली आइन्दा समाअत में जवाब दाख़िल किया जाये । प्रभु दास वैष्णवी नामी शख़्स को 1990 में जामनगर टाउन के जिम खम्बलया में फ़िर्कावाराना फ़सादाद के दौरान गिरफ़्तार किया गया था ।

पुलिस तहवील से आज़ाद करने के अंदरून चंद यौम हॉस्पिटल में इसकी मौत वाक़्य हो गई थी । इसके बाद वैष्णवी के भाई अमृत लाल ने संजीव भट्ट और दीगर 6 के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज कराई थी । डिस्ट्रिक्ट कोर्ट जामनगर ने संजय भट्ट की ताख़ीर की बिना माफ़ी के लिए दायर कर्दा दरख़ास्त को मुस्तर्द कर दिया था जिसके बाद इस मुक़द्दमा में उनके ख़िलाफ़-ए-वज़ा इल्ज़ामात की राह हमवार हो गई ।

TOPPOPULARRECENT