Monday , December 18 2017

संत सम्मलेन में बोले रामविलास वेदांती, मैन बाबरी मस्जिद का ढांचा तुड़वाया था

कानपुर. कानपुर के किदवई नगर के एक लॉन में हुए संत सम्मलेन में जगतगुरु शंकराचार्य वासुदेव सरस्वती महाराज, स्वामी चिन्मयानंद, रामविलास वेदांती, साध्वी प्राची समेत कई महामंडलेश्वर शामिल हुए। इस दौरान राम मंदिर के मुद्दे पर विस्तर से चर्चा हुई। रामविलास वेदांती ने कहा कि लाखों लोग साक्षी हैं कि उस विवादित ढांचे को मैंने तुड़वाया। इसकी जिम्मेदारी मैं लेता हूं। इसके लिए चाहे मुझे फांसी पर लटका दो, राम लला के नाम पर मैं साधू बना, अब उन्हीं के नाम पर मैं मर जाना चाहता हूं।

श्री राम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष रामविलास वेदांती ने कहा कि पाकिस्तानी आतंकवादी नहीं चाहते हैं कि राम मंदिर मुद्दा खत्म हो। साथ ही वो सुन्नी वक्फ बोर्ड को पैसे देकर ये झगड़ा खत्म नहीं होने देना चाहते।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि रामलला मंदिर का श्री गणेश 18 अक्टूबर, 2017 को प्रदेश के सीएम योगी जी ने कर दिया है। हिन्दू-मुस्लिम बैठकर इसका हल निकाले, इसके लिए मक्का-मदीना के इमाम, दिल्ली के इमाम बल्कि पूरे विश्व के इमामों को बुलाया जाए।

रामविलास वेदांती ने कहा, मंदिर मुद्दे पर मध्यस्तता करने के लिए कोई भी आगे आ सकता है। चाहे वो हिन्दू हो या मुस्लिम, चाहे सिया वक्फ बोर्ड हो या सुन्नी वक्फ बोर्ड, चाहे कोई अपने देश का हो या विदशी। हम राम जन्म भूमि मुद्दे पर चर्चा के लिए हर तरह से तैयार हैं।

वहीं, साध्वी प्राची ने कहा कि एक सिरफिरा व्यक्ति हिंदुस्तान के अन्दर कहता है कि हिन्दू धर्म आतंकवाद को बढ़ावा देता है। मुझे बड़ी शर्म आती है ऐसी बातें सुनकर और बड़ा अफसोस होता है। उस सिरफिरे को ये नहीं मालूम कि हिंदुस्तान की परंपरा, संस्कृति, धर्म क्या है। यह लोग हिन्दू धर्म को बदनाम करने की साजिश कर रहे हैं, ऐसे लोगों को मुंहतोड़ जवाब देना चाहिए। जिसको इस देश से प्यार नहीं उसे देश में रहने का अधिकार नहीं है।

TOPPOPULARRECENT