संप्रभुता के लिए अमेरिका सबसे बड़ा खतरा : चीन

संप्रभुता के लिए अमेरिका सबसे बड़ा खतरा : चीन
Click for full image

बीजिंग : दक्षिण चीन सागर विवाद पर चीन ने एक बार फिर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की आलोचना की और कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका, संप्रभुता के लिए एक बड़ा खतरा है।
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र आमसभा में दिए गए अपने भाषण में चीन का उल्लेख किए बिना ही संप्रभुता के लिए दी गई धमकियों की निंदा की थी।

ट्रंप ने कहा था कि हमें कानून के प्रति आदर, सीमाओं और संस्कृति के प्रति सम्मान और इनकी शांतिपूर्ण सांझेदारी को बनाए रखना चाहिए।

संयुक्त राष्ट्र महासभा में ट्रंप की टिप्पणी पर चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लु कंग ने पेइचिंग में कहा, ‘कभी-कभी कुछ देश फ्रीडम ऑफ नैविगेशन की आड़ में अपने विमानों और नौसैनिक बेड़ों को दक्षिण चीन सागर के नजदीक लाते हैं। वास्तव में, मुझे लगता है कि इस तरह के व्यवहार से दक्षिण चीन सागर से जुड़े देशों की संप्रभुता को खतरा होता है। चीन ही नहीं बल्कि राष्ट्रपति चुनाव में प्रतिद्वंदी रहीं हिलेरी क्लिंटन ने भी युएन में अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर डॉनल्ड ट्रंप के भाषण को खतरनाक बताया है।

जनवरी में ट्रंप ने पदभार ग्रहण करने के बाद से संयुक्त राज्य अमेरिका ने बीजिंग के समुद्री दावों को चुनौती देते हुए चीन द्वारा आयोजित द्वीपों के पास तीन यातायात की आजादी (फ्रीडम ऑफ नेविगेशन) को संचालित किया है।

Top Stories