Friday , November 24 2017
Home / Featured News / संयुक्त राष्ट्र आतंकवाद के खतरों को समझने में असमर्थ: मोदी

संयुक्त राष्ट्र आतंकवाद के खतरों को समझने में असमर्थ: मोदी

WASHINGTON, MAR 31 (UNI):- Prime Minister Narendra Modi departing from Brussels to Washington, on Thursday.UNI PHOTO-17U

ब्रसेल्स: संयुक्त राष्ट्र में तीव्र आलोचना करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि इस तरह का बड़ा वैश्विक संस्था आतंकवाद से उत्पन्न होने वाले खतरों का अंदाज़ा करने में नाकाम हो गया है। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर चैलेंजस से तुरंत निपटने कोई कार्य‌वाई नहीं की जाती तो यह संस्था अपना महत्व और प्रासंगिकता खो जायेगा। उन्होंने अच्छी आतंकवाद और खराब आतंकवाद की बात करने वालों की आलोचना की और कहा कि ये लोग ऐसी ताक़त अनजाने में या जानबूझकर नेतृत्व कर रहे हैं जो न केवल एक देश या क्षेत्र के लिए बल्कि सारी मानवता के लिए खतरा है।

साथ ही मोदी ने कहा कि आतंकवाद को धर्म से अलग करने की जरूरत है और उन्होंने कहा कि इस संकट को बम ‘बंदूक या पिस्तोल‌ उपयोग कर समाप्त नहीं किया जा सकता बल्कि इसके लिए ऐसा माहौल बनाने की जरूरत है जो युवाओं को इस तरह के विचारों से प्रभावित होने से रोका जा सके। उन्होंने कहा कि पिछले सप्ताह ब्रसेल्स खतरनाक आतंकी हमला हुआ है। इस हमले में मरने वालों के परिजनों से हमदर्दी है।

इस धरती पर एक लंबे समय के बाद ऐसा हमला हुआ है।प्रधानमंत्री यहां भारतीय समुदाय के सदस्यों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भारत भी पिछले 40 साल से आतंकवाद से प्रभावित है और दुनिया ने स्वीकार कर लिया है कि आतंकवाद कितनी घातक और खतरनाक है। उन्होंने कहा कि पिछले साल दुनिया के 90 देशों में आतंकवादी हमले हुए हैं जिनमें हजारों लोग अपनी जानें गंवा बैठे हैं और संयुक्त राष्ट्र अभी तक इसकी व्याख्या नहीं कर सका है।

उन्होंने कहा कि अगर हम आतंकवाद पर सवाल तो संयुक्त राष्ट्र अब तक यह नहीं जानता कि आतंकवाद है और इससे कैसे निपटा जाना चाहिए। क्योंकि संयुक्त राष्ट्र दरअसल बेहद खतरनाक युद्ध उत्पादन है और वह इससे आगे कुछ नहीं सोच सकता। नरेंद्र मोदी ने कहा कि आतंकवाद दरअसल समकालीन एक चुनौती है और यह मानवता के लिए चुनौती है। इससे फूटने वाले खतरों को समझने में संयुक्त राष्ट्र जैसा बड़ा वैश्विक संस्था भी विफल रहा है।

उन्होंने स्पष्ट किया कि भारत कई सालों से यह मांग कर रहा है कि आतंकवाद की व्याख्या की जाए। यह देखा जाए कि आतंकवादी कौन है और कौन सा देश आतंकवादी है। कौन आतंकवादियों की मदद कर रहा है। कौन उनकी मदद कर रहा है और कौन से कारक ऐसे हैं जिनसे आतंकवादियों प्रेरित हो रही है। उन्होंने कहा कि जब यह सब कुछ तय कर लिया जाएगा तो लोग इससे जुड़ने में भय महसूस करेंगे और इससे दूर होने की कोशिश करेंगे।

उन्होंने कहा कि वह यह नहीं जानते कि संयुक्त राष्ट्र में ऐसा कब किया जाएगा हालांकि जो स्थिति उभर रही है अगर इस समस्या का समाधान खोज नहीं किया गया तो इस संस्था के लिए अपना महत्व और प्रासंगिकता खोने में अधिक समय की आवश्यकता नहीं होगी। उन्होंने कहा कि अगर संयुक्त राष्ट्र जैसे संस्था को समय के साथ आगे बढ़ना है तो उसे चैलेंजस को समझना चाहिए और 21 वीं सदी में जीवन शांतिपूर्ण बनाना होगा और उसी समय विश्व कयाद जिम्मेदारी स्वीकार करनी होगी। जितनी देरी हम करेंगे तो हमें नुकसान होगा। जरूरत इस बात की है कि इस समस्या को जितना संभव हो सके जल्द हल कर लिया जाए।

TOPPOPULARRECENT