Monday , December 18 2017

संयुक्त राष्ट्र की मध्यस्थता से बांग्लादेश से बातचीत पर हो सकता है नुकसान: म्यांमार

यंगून: बांग्लादेश में रह रहे 6 लाख रोहिंग्या शरणार्थी को म्यांमार में वापस लाने के लिए संयुक्त राष्ट्र ने पहल की थी लेकिन संयुक्त सुरक्षा परिषद् के एक बयान से पता चला है कि इस बात चीत में संयुक्त राष्ट्र के दखल से बांग्लादेश को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा है| सुरक्षा परिषद् ने म्यांमार से कहा था की वह सैन्य बल का अधिक प्रयोग न करें| साथ राज्य में मानव अधिकारों के उल्लंघन और दुरुपयोग की रिपोर्टों पर गंभीर चिंता व्यक्त की।  जिसका जवाब देते हुए म्यांमार के वास्तविक नेता ओंग सगा सू ने कहा कि म्यांमार और बांग्लादेश का सामना करने वाले मुद्दों को द्विपक्षीय रूप से सुलझाया जा सकता है|

लेकिन आगे उन्होंने कहा कि इसके अलावा सुरक्षा परिषद राष्ट्रपति का वक्तव्य दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय वार्ता को संभावित और गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा सकता है, जो सुचारू रूप से आगे बढ़ रहे हैं। बांग्लादेश के साथ बातचीत चल रही है, और बांग्लादेश के विदेश मंत्री अबुल हसन महमूद अली को म्यांमार ने  16-17 नवंबर से आमंत्रित किया है| रविवार को ढाका में राष्ट्रमंडल देशों के सांसदों के लिए एक सम्मेलन में बोलते हुए, बांग्लादेश की प्रधान मंत्री शेख हसीना ने म्यांमार पर अधिक अंतर्राष्ट्रीय दबाव की मांग की।

प्रधानमंत्री शेख़ हसीना ने कहा कि मैं आप सभी को अनुरोध करता हूं कि आप रोहंगिया मुद्दे पर सर्वोच्च प्राथमिकता के साथ चर्चा करें और म्यांमार सरकार पर अपने नागरिकों के उत्पीड़न को रोकने और जल्द से जल्द उन्हें वापस लेने के लिए दबाव डालें।  चीन को मंजूरी देते हुए, म्यांमार के वक्तव्य में कहा गया है कि सुरक्षा परिषद के कुछ सदस्यों द्वारा उठाए गए स्टैंड की सराहना की गई जिन्होंने प्रभु देशों के आंतरिक मामलों में गैर हस्तक्षेप के सिद्धांत को बरकरार रखा। संयुक्त राष्ट्र ने पिछले 10 हफ्तों के दौरान हिंसा की निंदा की है क्योंकि बौद्ध बहुमत से म्यांमार के बाहर रोहिंग्या मुसलमानों को चलाने के लिए जातीय सफाई का एक उत्कृष्ट उदाहरण है।

हालाँकि आरोप को ख़ारिज करते हुए सेना ने कहा कि रोहिंग्या आतंकवादी ने 30 अगस्त को राज्य के उत्तरी भाग में 30 सुरक्षा पदों पर हमला किया था जिसके बाद सेना द्वारा कार्यवाई की गयी| सु की  दशकों तक म्यांमार पर शासन किया है| उन्होंने इस कट्टरता को खारिज हुए ही नोबेल शांति पुरस्कार जीता|

 

 

TOPPOPULARRECENT