Saturday , April 21 2018

सउदी अरब के युद्ध की चेतावनी के बाद ईरान की प्रतिक्रया युद्ध छेड़ने जैसा

तेहरान : ईरान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के सिंहासन को चेतावनी देते हुए कहा कि 32 वर्षीय वारिस ने युद्ध की चेतावनी दी है उन्हें इतिहास पता नहीं है. बहराम कासमी ने क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान को चेतावनी दी है कि “मौत के साथ पासा नहीं खेलें” और ईरानी राष्ट्र के संकल्प को चुनौती न दें. उन्होंने पूर्व इराकी नेता “भ्रमशील नौसिखिया” सद्दाम हुसैन के भाग्य को पढ़ाने के लिए अनुभवी सऊदी अधिकारियों से कहा था, लेकिन आखिर क्या हुआ.

कासमी को ईरान के मीडिया ने उद्धृत करते हुए कहा, “यह भ्रांतिपूर्ण नौसिखिया, जो अभी भी अपने जूते के लिए बहुत छोटा है, या तो पता नहीं कि युद्ध क्या है, या इतिहास का अध्ययन नहीं किया है, या दुर्भाग्य से एक सम्मानित व्यक्ति से बात नहीं की है,”

13 वीं शताब्दी की एक कविता से कसीमी ने कहा “एक ईगल के साथ चींटी भिंडना चाहता है जो तबाह होने के लिए जल्दबाजी कर रहा है” उसके बाद उन्होंने सऊदी शाही परिवार में फारसी भाषाविदों से पूछा कि वह क्राउन प्रिंस के लिए कविता का अनुवाद करें।

ईरान का बयान सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के उस बयान के बाद आया है जिसमें मोहम्मद बिन सलमान ने ईरान के खिलाफ एक सैन्य टकराव की संभावना जताए थे. उन्होंने कहा था कि अगर इस्लामी गणराज्य के खिलाफ मुश्किल अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों को इरान पर नहीं लगाया जा सका तो हम 10-15 वर्षों में ईरान के साथ युद्ध कर सकते हैं।”

सऊदी अरब ने इस क्षेत्र में ईरानी प्रभाव को देखते हुए यह चेतावनी दी थी उसने यमन में प्रॉक्सी संघर्षों और हौथियों से जरिए सउदी के साथ युद्ध छेड़ रखा है और ईरान को इससे बाज आना चाहिए.

सउदी 2015 ईरान परमाणु समझौते के एक कट्टर आलोचक रहा है, जिसमें यह कहा गया है कि ईरान के आर्थिक संकटों को कम करेगा और हिजबुल्ला जैसे सहयोगी कंपनियों को सहारा देने की अनुमति देगा। सऊदी अधिकारियों ने बारह समझौते पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के कठिन रुख की बार-बार सराहना की है।

TOPPOPULARRECENT