Thursday , September 20 2018

सऊदी अरब: इस कारण हर दिन इतने बाहरी लोगों को निकाल रहा है नौकरी से?

सऊदी अरब में बढ़ती बेरोज़गारी और तेज़ी गिरती अर्थव्यवस्था की वजह से दैनिक आधार पर 2600 प्रवासी कामगारों ने सऊदी श्रम बाजार छोड़ना शुरू कर दिया है। जिसकी वजह से प्रवासियों को सऊदी से अलविदा कहना पड़ रहा है।

प्रवासियों के सऊदी छोड़ने के पीछे सऊदी क्राउन प्रंस मोहम्मद बिन सलमान के विज़न 2030 को माना जा रहा है जिसका उद्देश्य सऊदी के हर विभाग से प्रवासी कर्मचारियों की निर्भरता खत्म करना है और सिर्फ सऊदी नागरिकों को ही रोज़गार देना है।

विदेशी समाचार एजेंसी के अनुसार 2018 की पहली तिमाही के अंत तक 7 लाख से अधिक विदेशी श्रमिक सऊदी अरब के स्थानीय बाजार को छोड़ चुके है। 2017 से अब तक 7.2 लाख विदेशियों ने सऊदी श्रम बाजार छोड़ दिया है।

सऊदी अरब मे 2018 की पहली तिमाही के अंत तक बेरोजगारी दर 12.9 प्रतिशत तक पहुंच गई है। 1.07 लाख सऊदी रोजगार की तलाश में हैं।

सांख्यिकी विभाग के प्रमुख डॉ फहीद अलतखीफी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में मीडिया प्रतिनिधियों से कहा कि वर्ष के पहले तीन महीनों के दौरान 234.2 हजार विदेशी कामगारों ने सऊदी अरब छोड़ा है।

उन्होंने कहा कि सऊदी अरब में बेरोजगारी दर पुरूषो मे 7.6 प्रतिशत और महिलाओ मे 30.9 प्रतिशत पहुंच गई है। ये आंकड़े 2018 की पहली तिमाही के हैं।

यह स्पष्ट है कि निहत्थे यमनीयो के खिलाफ बिना किसी कारण घोषित युद्ध के बाद सऊदी अर्थव्यवस्था देश को बहुत नुकसान उठाना पड रहा है, जबकि विशेषज्ञों का कहना है कि सऊदी अरब अब को यमन से छुटकारा पाने का कोई बहाना नहीं मिल पा रहा है, क्योंकि यमन के युद्ध मे लंबे खर्च के बावजूद, देश अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में असफल रहा है।

TOPPOPULARRECENT