Monday , September 24 2018

सऊदी अरब के अल जौफ पहाड़ में मिला ऊंटों की 2,000 साल प्राचीन नक्काशी

रियाद : सऊदी-फ्रेंच पुरातत्वविदों को सऊदी अरब के उत्तर अल-जौफ के रेगिस्तानी चट्टानों पर ऊंटों की प्रतिमाएं मिलीं है। चट्टानों पर की गई ऊंट की नक्काशी 2,000 साल पहले की है, उनमें से कुछ अधूरे हैं, तीन चट्टानों में यह फैला हुआ दिखता है।

यह अभी भी एक रहस्य है कि ये नक्काशियां ऐसे दूरदराज के इलाकों में मौजूद हैं जहां इस तरह के अवशेषों के लिए यह परिचित जगह नहीं है। उनकी उपस्थिति इस क्षेत्र में एक प्राचीन सभ्यता के अस्तित्व होने की ओर इंगित करती है।

संयुक्त दल ने इस खोज के बाद घोषणा की थी कि यह क्षेत्र पूजा की जगह हो सकती है या ऊंटों की नक्काशियों का उपयोग सीमा के मार्कर के रूप में किया जाता था। जबकि कई पुरातत्वविदों ने यह माना है कि यह खोज सऊदी किंगडम के उत्तरी क्षेत्रों में शिलालेखों और रॉक कलाओं की संभावित संपत्ति को दर्शाता है।

संयुक्त सऊदी-फ्रांसीसी मिशन पर पर्यटन प्राधिकरण की एक रिपोर्ट में इस क्षेत्र में रॉक आर्ट की विशेषता वाले 56 साइटें विशेष रूप से जौफ, हेल और तबुके में थीं। अन्वेषण और खोज जारी है।

पर्यटन के लिए सामान्य प्राधिकरण और नेशनल हेरिटेज के पूर्व निदेशक हुसैन अल-खलीफा ने कहा था कि यह साइट संभवत: नबाटिएन का है क्योंकि यह इराक और अरब प्रायद्वीप के उत्तर को जोड़ने वाले महत्वपूर्ण व्यापार मार्गों पर स्थित है।

फ्रांसीसी टीम के अनुसार, यह साइट का धार्मिक महत्व नहीं है। अरब संस्कृति में, ऊंट पौष्टिक भोजन और दूध के स्रोत के रूप में पूर्वजों के जीवन में बहुत महत्त्वपूर्ण है, लेकिन यह पूजा के लिए नहीं थी।

TOPPOPULARRECENT