सऊदी अरब में पाँच लाख शामी पनाह गुज़ीनों की मेज़बानी

सऊदी अरब में पाँच लाख शामी पनाह गुज़ीनों की मेज़बानी
Click for full image

शाम में ख़ाना जंगी के नतीजे में लाखों शहरीयों की पुर ख़तर रास्तों के ज़रीए यूरोप मुंतकली की ख़बरों के बाद ये कहा जाने लगा था कि ख़लीजी ममालिक बिल ख़सूस सऊदी अरब शामी पनाह गुज़ीनों को अपने यहाँ पनाह क्यों नहीं दे रहा है।

हाल ही में सामने आने वाले आदादो शुमार में बताया गया है कि ये बात क़तई तौर पर बेबुनियाद है कि सऊदी अरब ने शामी पनाह गुज़ीनों के लिए अपने दरवाज़े बंद कर रखे हैं। पिछले पाँच बरसों में पाँच लाख शामी पनाह गुज़ीन सऊदी अरब में पनाह हासिल कर चुके हैं।

सऊदी हुकूमत की जानिब से ना सिर्फ ये कि उन्हें आरिज़ी क़ियाम का हक़ दिया गया है बल्कि उन्हें रोज़गार की फ़राहमी के साथ मुफ़्त में सेहत और तालीम की सहूलतें भी मुहय्या की हैं।

रिपोर्ट में बताया गया है कि शाम से तीन लाख बाशिंदे आरिज़ी और महदूद मुद्दत के वीज़ों पर सऊदी अरब आए थे मगर वो वापिस नहीं जा सके हैं। उनमें एक लाख शामी तलबा सऊदी अरब में मुफ़्त तालीम हासिल कर रहे हैं। सऊदी अरब ने उन्हें वापिस जाने के लिए किसी किस्म का दबाव नहीं डाला है।

Top Stories