Wednesday , January 17 2018

सऊदी ख़वातीन(लेडीज) का हमवतन (अपने ही मुलक के) टैक्सी ड्राईवरस की गाड़ियों में सफ़र से गुरेज़

सऊदी ख़वातीन(लेडीज) की अक्सरियत अपने हमवतन (अपने ही मुलक के) टैक्सी ड्राईवरों के बजाय बैरूनी टैक्सी ड्राईवरस की गाड़ियों में सफ़र को तरजीह देती हैं। ख़वातीन(लेडीज) की दानिस्ता(जान बूज) गुरेज़ का सबब अक्सर सऊदी नौजवानों ने अपने रि

सऊदी ख़वातीन(लेडीज) की अक्सरियत अपने हमवतन (अपने ही मुलक के) टैक्सी ड्राईवरों के बजाय बैरूनी टैक्सी ड्राईवरस की गाड़ियों में सफ़र को तरजीह देती हैं। ख़वातीन(लेडीज) की दानिस्ता(जान बूज) गुरेज़ का सबब अक्सर सऊदी नौजवानों ने अपने रिवायती क़ौमी लिबास के बजाय बैरूनी मलबूसात का इस्तिमाल शुरू कर दिया है

ताकि ये ज़ाहिर ना हो सके कि वो सऊदी शहरी हैं बल्कि ख़ातून मुसाफ़िरों को अपनी टैक्सियों की तरफ़ राग़िब करने के लिए वो ख़ुद को बैरून वतन तारकीन वतन ज़ाहिर करते हैं जिस की वजह से उन की गाड़ी में सऊदी ख़वातीन(लेडीज) सफ़र भी कर लेती है और किराया से ज़्यादा रक़म भी अदा करती हैं।

TOPPOPULARRECENT