Tuesday , December 19 2017

सऊदी सिफ़ारतख़ाने पर हमला पासदाराने इन्क़िलाब का मन्सूबा था!

ईरानी ज़राए इबलाग़ ने पासदाराने इन्क़िलाब की जानिब से तेहरान में वाक़े सऊदी अरब के सिफ़ारतख़ाने पर बुलवाइयों के ज़रीये हमला कराने की मुनज़्ज़म मंसूबा बंदी का इन्किशाफ़ किया है और बताया है कि एक हफ़्ता पेशतर तेहरान में सऊदी सिफ़ारत ख़ाने पर हमला पासदाराने इन्क़िलाब की तयशुदा साज़िश का नतीजा था।

उलार बया डाट नैट के मुताबिक़ ईरान की इस्लाह पसंदों की मुक़र्रब समझी जाने वाली न्यूज़ एजैंसी सहाम न्यूज़ ने दावा किया है कि तेहरान में सऊदी अरब के सिफ़ारत ख़ाने पर हमले की मंसूबा बंदी दारुल हुकूमत की शुमाल मशरिक़ी कॉलोनी शहीद महिलाती अल असकरी में तैयार की गई थी जिसमें पासदाराने इन्क़िलाब की ज़ेली मिलिशिया के अहलकारों ने शिरकत की थी।

इस इन्किशाफ़ ने ईरानी हुकूमत की दोगली पालिसी और दर पर्दा साज़िशों की हिक्मते अमली का पर्दा चाक कर दिया है।

क्योंकि तेहरान हुकूमत की तरफ़ से सऊदी अरब के सिफ़ारतख़ाने पर हमले की मुज़म्मत करते हुए उसे नाक़ाबिले क़ुबूल क़रार दिया था।

TOPPOPULARRECENT