Wednesday , December 13 2017

सचिन के रिकार्डस‌ नाक़ाबिल तसख़ीर । साबिक़ क्रिकेटरस का ज़बरदस्त खिराज

क्रिकेट दुनियाँ ने आज मास्टर ब्लास्टर सचिन तंदुलकर को वनडे क्रिकेट से अलग होने पर बेमिसाल ख़राज पेश किया है और कहा कि सचिन ने जो कारनामे अंजाम दिए हैं और जो रिकार्डस‌ बनाए हैं वो तोड़े नहीं जा सकते ।

क्रिकेट दुनियाँ ने आज मास्टर ब्लास्टर सचिन तंदुलकर को वनडे क्रिकेट से अलग होने पर बेमिसाल ख़राज पेश किया है और कहा कि सचिन ने जो कारनामे अंजाम दिए हैं और जो रिकार्डस‌ बनाए हैं वो तोड़े नहीं जा सकते ।

जैसे ही सचिन तंदुलकर ने वनडे क्रिकेट से अलगहोने का आज एलान किया उनको ख़राज पेश किए जाने का सिलसिला शुरू होगया साबिक़ कप्तान गंगोली ने कहा कि इनका ख़्याल था कि सचिन तंदुलकर पाकिस्तान के ख़िलाफ़ सीरीज़ खेलेंगे लेकिन ये उनका अपना फैसला है और ये एक अच्छा फैसला है ।

गंगोली सचिन के साथ बहुत ज़्यादा समय‌ तक ओपनिंग निभाते रहे हैं। उन्होंने कहा कि ये शुबाह‌ ज़ाहिर किया जा रहा था कि आगे वो वनडे क्रिकेट खेलेंगे या नहीं । ताहम उन्हें सचिन के फैसले पर कोई हैरत नहीं हुई है । उन्होंने वही किया जो कुछ उन्होंने अच्छा समझा।

गंगोली ने कहा कि वो नहीं समझते कि सचिन पर स‌लेक्टर्स की तरफ‌ से कोई दबाव‌ था । ये उनका अपना फैसला था और उन्हें कोई भी ड्राप नहीं कर सकता । साबिक़ कप्तान कृष्णमाचारी श्रीकांत ने कहा कि उन्हें सचिन के फैसले पर हैरत हुई है ।

उन्होंने कहाकि उन्हें सचिन के इस इक़दाम से हैरत हुई है लेकिन वो एक बेहतर समय‌ में वनडे क्रिकेट से अलग होने का इरादा कर रहे हैं और उन्हें यक़ीन है कि वो टेस्ट क्रिकेट में भी एक अच्छी प्रफर्मेंस के साथ अच्छे समय‌ में अलग‌ होना चाहते हैं।

उन्होंने कहा कि सचिन ने पाकिस्तान के ख़िलाफ़ हमेशा अच्छा मुज़ाहरा किया है । लेकिन वो हमेशा एक अच्छे बौलिंग के ख़िलाफ़ अच्छा मुज़ाहरा करते हैं। चाहे ये 1992 में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ वर्ल्ड कप हो या फिर 2003 का वर्ल्ड कप हो सचिन ने हमेशा अच्छा मुज़ाहरा किया है ।

उन्होंने कहा कि ये कहना असान था कि 2011 के वर्ल्ड कप के बाद सचिन अलग‌ होजाते । उन्होंने 100 सैंचुरीयाँ मुकम्मल करनी थीं इसलिए वो एशिया कप गए । ये एसा कारनामा है जो किसी ने अंजाम नहीं दिया है । यह रेकॉर्ड तोड़े नहीं जा सकते । एक और साबिक़ कप्तान दिलीप वेंगसंकर ने कहा कि सचिन को वनडे क्रिकेट जारी रखना चाहीए था ।

उन्होंने कहा कि हक़ीक़त में उन्हें हैरत हुई है । अगर वो इंटरनेशनल क्रिकेट ( टेस्ट ) जारी रखते हैं तो उन्हें वनडे भी जारी रखना चाहीए था । हम एक सीज़न में 25 वनडे खेलते हैं। ये बहुत अहम है कि इंटरनेशनल क्रिकेट जारी रखी जाये । उन्होंने कहा कि वनडे में वो एन्निंगस‌ की शुरूआत करते हैं और पूरी एन्निंगस‌ खेलने का मौक़ा रहता है ।

वो इंटरनेशनल बौलिंग का सामना करने के आदी हैं। उन्हें हैरत है कि सचिन वनडे से अलग‌ हुए हैं। उन्हें वनडे जारी रखना चाहीए था । उन्होंने कहा कि जब तक सचिन टेस्ट और इंटरनेशनल क्रिकेट खेलते रहेंगे उन्हें वनडे भी खेलना चाहीए था । सचिन के साथी हरभजन सिंह ने अपने ट्वीटर पर तहरीर‌ किया है कि 463 मेचस 23 साला केरियर और 18426 रंस ये एसा कारनामा है जिस के करीब भी कोई नहीं पहूंच सका है ।

सचिन को सलाम सलाम सलाम । उन्होंने तहरीर किया कि सचिन एक अज़ीम बल्लेबाज़ एक अज़ीम इंसान और एक अज़ीम दोस्त के अलावा हिंदूस्तान के हक़ीक़ी सपूत हैं। एक और साबिक़ क्रिकेटर कीर्ति आज़ाद के ब्यान‌ सचिन ने वनडे से अलग‌ होकर हिंदूस्तानी क्रिकेट का एहतिराम किया है ।

उन्होंने कहा कि बिलआख़िर ये फैसला होगया है । हर कोई ये कह रहा था कि उन्हें अलग‌ होजाना चाहीए । वो समझ‌ते हैं कि अगर वो क्रिकेट खेल रहे हैं तो वो अच्छा खेल रहे हैं या खराब‌ इसका फैसला स‌लेक्टर्स को करना चाहिए । उन्होंने कहा कि सलेक्टर्स ने फैसला नहीं किया ।

होसकता है कि सचिन ख़ुद थक गए हों की उनका सलेक्टर्स कोई फैसला नहीं कर रहे थे । वो ख़ुश हैं कि उन्होंने बिलआख़िर एक अच्छे समय‌ में अच्छा फैसला करलिया है । एक और साबिक़ क्रिकेटर बापू नडकरनी ने कहा कि तंदुलकर के फैसले का एहतिराम किया जाना चाहीए ।

उन्होंने कहा कि कुछ समय‌ से उम्मीद की जा रही थी कि वो अलग होजाएगे । वो समझते हैं कि टेस्ट क्रिकेट के लिए वो हनूज़ बेहतर हैं इसी लिए उन्होंने इस से अलाहदगी इख़तियार नहीं की है । सचिन ही वो बेहतर शख़्स थे जिन्हें इस ताल्लुक़ से फैसला करना चाहीए था और उन्होंने ये फैसला करलिया है ।

साबिक़ पाकिस्तान कप्तान और मशहूर कोमनटेटर रमीज़ राजा ने कहा कि वो सुबकदोशी के सचिन तंदुलकर के फैसले को समझ सकते हैं। जब आप ने 23 साल इंटरनेशनल क्रिकेट खेली है तो ये समय‌ आता है कि जब वनडे खेल से आपको दिलचस्पी बाक़ी नहीं रह जाती ।

सचिन ने कई कारनामे अंजाम दिए हैं और वर्ल्ड कप भी जीता है । इस में उन का फैसला क़ाबिल-ए-फ़हम है । उन्होंने कहा कि सचिन के लिए असल चैलेंज अब रहेगा क्योंकी टेस्ट क्रिकेट में मौजूदगी से आप साल भर में 30 दिन इंटरनेशनल क्रिकेट खेलेंगे ।

वनडे में होते तो जुमला 70 ता 75 दिन तक आप खेल सकते थे । जुनूबी अफ्रीका के बल्लेबाज़ हाशिम अमला ने भी सचिन को खिराज पेश किया है और ट्वीटर पर कहा कि एक बहतरीन बल्लेबाज़ का शानदार वनडे कैरियर ख़त्म होगया । मुबारक सचिन तंदुलकर ।

TOPPOPULARRECENT