सचिन को मज़ीद खेलना चाहिए था : राना तुंगा

सचिन को मज़ीद खेलना चाहिए था : राना तुंगा
श्रीलंका के साबिक़ वर्ल्ड कप फ़ातिह कप्तान अर्जुन राना तुंगा ने कहा कि उनके ख़्याल में सचिन तेंदुलकर मज़ीद कुछ वक़्त तक क्रिकेट खेल सकते थे और इससे यक़ीनी तौर पर रिवायती टेस्ट क्रिकेट की मदद होती।

श्रीलंका के साबिक़ वर्ल्ड कप फ़ातिह कप्तान अर्जुन राना तुंगा ने कहा कि उनके ख़्याल में सचिन तेंदुलकर मज़ीद कुछ वक़्त तक क्रिकेट खेल सकते थे और इससे यक़ीनी तौर पर रिवायती टेस्ट क्रिकेट की मदद होती।

राना तुंगा ने यहां फ़िक्की के एक समेनार के बाद मीडिया से बात चीत करते हुए कहा कि मेरी ख़ाहिश थी कि सचिन मज़ीद कुछ वक़्त तक टेस्ट क्रिकेट खेलते कि उनका क्रिकेट को सचिन जैसी शख्सियतों की ज़रूरत होती है। उन्हें पूरी उम्मीद है कि सचिन तेंदुलकर सबकदोशी के बाद भी टेस्ट क्रिकेट की मदद का सिलसिला जारी रखेंगे जैसा उन्होंने खेलते हुए किया था।

किसी खिलाड़ी की जानिब से सबकदोशी का फैसला करने से मुताल्लिक़ सवाल पर राना तुंगा ने कहा कि उन्हें इस ताल्लुक़ से फैसला करने में तीन दिन लगे थे। उन्होंने कहा कि जब उन्होंने सबकदोशी का फैसला किया था उस वक़्त उन्हें तीन दिन लगे थे। उस वक़्त वो इंशोरंस ब्रोकर एक ताजिर जुज़ वक़्ती सियासतदां थे ताहम सचिन के लिए होसकता है कि ये फैसला बहुत मुश्किल रहा हो।

वो ना सिर्फ़ क्रिकेट खेलते खाते सोते बल्कि सांस भी क्रिकेट की लेते हैं और वो अपने वाश रुम में भी क्रिकेट ही के ताल्लुक़ से सोचते होंगे। राना तुंगा ने कहा कि सचिन की सादगी और इनकिसारी उन्हें अपने वक़्त के दूसरे खिलाड़ियों से मुनफ़रद बनाते है। सचिन एक तवील कैरियर में ज़रा भी नहीं बदले हैं। वो समझते हैं कि अगर वो एक लाख रंस‌ भी स्कोर करलेते तो नहीं बदलते।

उन्होंने कहा कि सचिन एक मेगा स्टार के इलावा उभरते हुए और नौजवान खिलाड़ियों के लिए सारी दुनिया में एक मिसाल हैं। मेरे लिए सचिन तेंदुलकर एक बेहतरीन रोल मॉडल हैं और वो दुनिया भर में जहां कहीं क्रिकेट के ताल्लुक़ से कोई बात करते हैं तो इस में सचिन का तज़किरा ज़रूर शामिल होता है।

Top Stories