Sunday , December 17 2017

सड़क हादसों पर नीतीश की गडकरी को सलाह, देशभर में बंद कराइए शराब

सड़क हादसों में हर रोज 400 लोगों की मौत का आंकड़ा पेश करने वाले सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक सलाह दे डाली। उन्होंने कहा कि गडकरी जी देश भर में शराब प्रतिबंधित करवा दीजिए 40 प्रतिशत तक हादसे यूं ही रुक जाएंगे।

जीविका के कार्यक्रम में गया पहुंचे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शराबबंदी के संकल्प को दोहराया और जीविका की दीदियों को सचेत रहने की सलाह दी। कहा कोई प्रभाव का इस्तेमाल कर पीने और पिलाने की बात करता है तो सीेधे शिकायत कीजिए। उन्होंने केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को सलाह देते हुए कहा कि ‘गडकरी जी पूरे देश में शराबबंदी लागू करा दीजिए 32 से 40 फीसदी दुर्घटना ऐसे की कम हो जाएगी’।

सीएम ने कहा कि शराबबंदी को लेकर जो त्रुटि रह गई होगी उसे मानसून सत्र में दूर कर लिया जाएगा। हम एक भी छेद नहीं छोड़ने वाले हैं। शराब बंदी के कारण कुल संज्ञेय अपराधों में 15 फीसदी की गिरावट आयी है। दो महीने के अंदर हत्या के मामले में 32 फीसदी, डकैती में 45 फीसदी, फिरौती के लिए अपहरण में 78 फीसदी और सड़क दुर्घटना में 32 फीसदी कमी हो गई है।

एक अध्ययन का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि सजायाफ्ता कैदियों में 41 फीसदी लोगों ने शराब के नशे में अपराध किया। अब गांव-गांव में शांति है। गाली-गलौज और मारपीट का माहौल बदल गया है। पति लोग अब दारू पीकर आने के बजाए सब्जी लेकर घर आते हैं। नीतीश ने यह भी कहा कि जो सब्जी लेकर नहीं आते हैं उनपर नजर रखिए कि वो क्या करते हैं। कार्यक्रम के दौरान कई मंत्री, प्रमंडल से जुड़े अधिकारी, जीविका की दीदियां मौजूद थीं।

सीएम ने कहा कि शराबबंदी का दूसरे राज्यों पर भी प्रभाव पड़ा है। दूसरे राज्यों की महिलाएं भी इसकी मांग कर रही हैं। झारखंड, यूपी, महाराष्ट्र और राजस्थान में शराबबंदी की मांग है। बिहार इसकी नजीर बने। उन्होंने कहा कि यह महात्मा गांधी के चरणों में श्रद्धांजली है।

नीतीश कुमार ने कहा कि जिस थाना में गड़बड़ी पाई जाएगी वहां के दारोगा को दस साल तक थाना के काम से दूर रखा जाएगा। विभागीय और कानूनी कार्रवाई होगी वह अलग। उन्होंने यह भी कहा कि जो इस कानून का फायदा उठाकर किसी को फंसाने की कोशिश करेगा उसपर भी मुकदमा चलेगा। मोहनिया की घटना का जिक्र करते हुए सीएम ने कहा कि यहां सात लोगों को नौकरी से बर्खास्त किया गया।

TOPPOPULARRECENT