Friday , April 20 2018

सत्ता में रहूं या न रहूं, साम्प्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने वालों से कोई समझौता नहीं- नीतीश कुमार

सीएम नीतीश कुमार ने कहा है कि सत्ता रहे या न रहे, वे अपने बुनियादी सिद्धांतों से समझौता नहीं करेंगे। भ्रष्टाचार, अपराध और सांप्रदायिक सद्भाव बिगाडऩे वालों से कोई समझौता नहीं करूंगा। उन्‍होंने अनुसूचित जाति और जनजाति के लोगों को आश्‍वस्‍त करते हुए कहा कि संविधान में जो आरक्षण उन्‍हें दिया गया है उसे कोई छीन नहीं सकता।

इसके लिए वह अंतिम सांस तक संघर्ष करेंगे। कौन आरक्षण के खिलाफ है और इस पर किसकी क्या राय है, उससे उनका कोई लेना-देना नहीं। हमारा मतलब दलितों के आरक्षण की व्‍यवस्‍था को बनाए रखने की है। सीएम ने ये बात डॉ. भीमराव अंबेडकर की 127वीं जयंती के अवसर पर कही।

बिहार में दलित और महादलित समाज के लिए किए गए कार्यों की चर्चा करते हुए कहा कि हमारा काम सभी के सामने है। उन्हें किसी से प्रमाण पत्र लेने की आवश्‍यकता नहीं है। जेडीयू के लोगों से कहा कि कोई कुछ भी बोले आपको उन बातों को तवज्‍जो देने की जरूरत नहीं है।

न ही बिना वजह इस मुद्दे पर तकरार करने की आवश्‍यकता है। किसी का नाम लिए बिना सीएम ने कहा कि कुछ लोग समाज को तोडऩे में विश्‍वास रखते हैं। जरूरत समाज में टकराव और तनाव के माहौल को खत्म करने की है।

कुछ लोग हमें बयानबाजी में नहीं अपने काम पर भरोसा है। बयानबाजी का असर तात्‍कालिक होता है। सबसे महत्वपूर्ण बात है कि आपकी प्रतिबद्धता किस चीज से है। स्कूल के जमाने से ही डॉ. लोहिया का यह वाक्य दिल में है कि जुबान से कम बोलिए, काम ऐसा कीजिए कि वह बोले।

सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि संविधान प्रदत्त अधिकारों का उपयोग करने के योग्‍य जो लोग नहीं हैं, उन्हीं को सक्षम बनाने के लिए आरक्षण का प्रावधान है।

जब तक यह लक्ष्य हासिल न हो जाय, इससे छेड़छाड़ हो ही नहीं सकती। समाज में जो हाशिए पर हैं उनके लिए विशेष इंतजाम किया जाता रहेगा। मैं लोहिया के सिद्धांतों पर चलता रहूंगा और अंतिम सांस तक वंचित समाज की बेहतरी के लिए काम करता रहूंगा।

TOPPOPULARRECENT