Tuesday , June 19 2018

सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड को धमकी आमेज़ टेलीफ़ोन कालस

सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड जनाब ग़ुलाम अफ़ज़ल ब्याबानी ख़ुसरो पाशाह को गुज़शता चंद दिनों से धमकी आमेज़ कालस मौसूल होरहे हैं। वक़्फ़ बोर्ड ज़राए के बमूजिब कालर्स जो ख़ुद को फ़िर्क़ा अहमदिया के ज़ाहिर कररहे हैं, उन के ज़ेरे क़बज़ा-ओ-त

सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड जनाब ग़ुलाम अफ़ज़ल ब्याबानी ख़ुसरो पाशाह को गुज़शता चंद दिनों से धमकी आमेज़ कालस मौसूल होरहे हैं। वक़्फ़ बोर्ड ज़राए के बमूजिब कालर्स जो ख़ुद को फ़िर्क़ा अहमदिया के ज़ाहिर कररहे हैं, उन के ज़ेरे क़बज़ा-ओ-तसर्रुफ़ मसाजिद को वापस लेने के ज़िमन में वक़्फ़ बोर्ड के किसी किस्म के इक़दाम के ख़िलाफ़ सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड को चयालनज कररहे हैं कि अगर वो ऐसी कोई पहल करते हैं तो उन्हें जान से मार डालने से भी गुरेज़ नहीं करेंगे।

वक़्फ़ बोर्ड के ज़राए के बमूजिब जनाब ख़ुसरो पाशाह ने इबतदा में इन धमकी आमेज़ कालस को नज़र अंदाज कर दिया ताहम मुतवातिर काल मौसूल होने पर अपने बही ख्वाहों के मश्वरा पर आज डायरैक्टर जनरल आफ़ पोलीस एडीशनल डायरैक्टर जनरल आफ़ पोलीस (ला एंड आर्डर) और सिटी कमिशनर आफ़ पोलीस हैदराबाद को एक शिकायती मकतूब रवाना करते हुए धमकी आमेज़ कालस करने वालों के ख़िलाफ़ मुनासिब कार्रवाई करने और इस के पसेपर्दा ताक़तों का पता चलाने महिकमा पोलीस किसी भी तहक़ीक़ाती शोबा के ज़रीया जामे तहकीकात करवाने की ख़ाहिश की है।

याद रहे कि वक़्फ़ बोर्ड को एक तवील अर्सा से फ़िर्क़ा अहमदिया के ज़ेरे क़बज़ा-ओ-तसर्रुफ़ सुनी शीआ ओक़ाफ़ी जायदादों को वापस लेने इस्लाम के मुख़्तलिफ़ मकातिब फ़िक्र की जानिब से नुमाइंदगीयाँ की जाती रहीं। फ़िर्क़ा अहमदिया जिन्हें उर्फ़ आम में कादयानी कहा जाता है आलम-ए-इस्लाम के तमाम मकातीब फ़िक्र ने गैर मुस्लिम क़रारदिया है।

याद रहे कि सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड ने मुसलसल नुमाइंदगियों को मल्हूज़ रखते हुए हाल ही में चीफ एकज़ेकेटिव ऑफीसर वक़्फ़ बोर्ड को हिदायत दी थी कि रियासत भर के तमाम इन्सपैक्टर आडीटर वक़्फ़ को हिदायत जारी की जाय कि वो अंदरून दो यौम ऐसी मसाजिद की निशानदेही करें जो फ़िर्क़ा कादयानी के ज़ेर क़बज़ा-ओ-तसर्रुफ़ हैं। सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड के इन अज़ाइम के सिलसिला में रोज़नामा सियासत में ख़बर की इशाअत भी अमल में आई थी।

जिस के बाद से सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड को धमकी आमेज़ फ़ोन कालस मौसूल होना शुरू हुए। कालर्स ने उन्हें अहमदियों से मस्जिद वापस ले लेने पर संगीन नताइज की धमकियां देना शुरू करदिं।इस ख़सूस में सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड से रब्त पैदा नहीं होसका। मालूम हुआ है कि इस ख़सूस में वक़्फ़ बोर्ड के 18 फ़बरोरी को मुनाक़िद शुदणी इजलास में अहम फ़ैसला किया जाने वाला है।

TOPPOPULARRECENT